Thursday, February 8, 2018

राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह को पर्यटनमंत्री ने दिया सूरजकुंड मेले का निंमत्रण


 Rajasthan Governor Kalyan Singh invited to visit Surajkund fair by Tourism Minister

चंडीगढ़,8  फरवरी(abtaknews.com) हरियाणा के शिक्षा एंव पर्यटन मंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा ने आज राजस्थान के राज्यपाल  कल्याण सिंह को फरीदाबाद में आयोजित अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड मेले में आने के लिए निंमत्रण दिया। शिक्षा मंत्री ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय सूरजकुण्ड शिल्प मेला ने उत्तर भारत में अपना एक स्थान बना लिया है, जहां लोक कलाओं, लोक परपंराओं, संस्कृति के आदान-प्रदान और हस्तशिल्पियों के साथ-साथ हस्तशिल्प से जुडे उद्यमियों को एक अच्छा मंच प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि 32वें अंतरराष्ट्रीय सूरजकुण्ड शिल्प मेला में उत्तर प्रदेश राज्य को थीम राज्य के रूप में अवसर प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के मेले व आयोजन तथा विशिष्ठ पर्व संस्कृति, सामाजिक, धार्मिक एकता को प्रदर्शित करने का मौका प्रदान करते है। 

उन्होनें कहा कि इस मेला में स्टालों के साथ-साथ मेला की अवधि को भी बढाया गया है।  जो पहले 14 दिन की थी को 16 दिन किया गया है। इस मेले में  मथुरा, वृन्दावन , आयोध्या, प्रयागराज, काशी के घाटों के साथ-साथ अन्य प्रसिद्ध स्थलों के द्वारों व कलाकृतियों को प्रमुखता के साथ दर्शाया  गया है। उन्होनें कहा कि यहां के किसानों ने हरियाणा की धरती को हरा-भरा कर दिया है और हरियाणा के नाम को चरितार्थ किया है। उन्होंने कहा कि हरियाणा की धरती संदेश देने वाली धरती हैं जहां महाराजा अग्रसेन ने संदेश दिया था कि जो भी नागरिक आए तो उसे एक ईंट व एक मुद्रा देकर भेजा जाए अर्थात इस प्रकार के कार्यकलाप से उस नागरिक को सम्मान मिलता था। 
उन्होंने कहा कि राज्यों से  सम्बंध प्रगाढ़ बने, इसके लिए ऐसे मेलों का आयोजन होते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बार इस मेला में 1000 से अधिक कलाकार, बुनकर व हस्तशिल्प कलाकार आए हैं और उत्तर प्रदेश मेला में थीम राज्य के रूप में शिरकत कर रहा है। 

उन्होनें कहा कि गीता का संदेश हरियाणा में दिया गया, जो आपसी संस्कृति की एक पहचान है। इसी प्रकार, इस बार इस मेला में लगभग 28 देशों की संस्कृति व कला का संगम यहां पर होगा। उन्होंने बताया कि इस बार मेला में किर्गीस्तान भागीदार देश के रूप में भाग ले रहा हैं, जो विश्व प्रसिद्ध झीलों के रूप में जाना जाता हैं, इसके अलावा, यह देश सोना, जैविक खेती इत्यादि के लिए भी प्रसिद्ध है। उन्होंने बताया कि भारत और किर्गीस्तान के साथ पर्यटन, कृषि के अलावा अन्य क्षेत्रों में 6 समझौते किए गए है, जिससे वसुदेव कुटुम्बकम्  के दर्शन होते है। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: