Monday, February 5, 2018

नहरपार के किसानों ने हुड्डा पर चारशीट के बाद की अधिग्रहित जमीन की सीबीआई जाँच की मांग



 Farmers of Naharpara demand CBI inquiry into land acquired after Harchada
फरीदाबाद (abtaknews.com) 05 फरवरी,2018 ; 1600 करोड की 900 एकड जमीन 100 करोड में बेचने के आरोप में सी0बी0आई0 ने मानेसर जमीन घौटाले में हुड्डा और पावरफुल  ऑफसरों के खिलाफ चार शीट में कई बिल्डरों के नाम शामिल है। चार शीट दाखिल होने के बाद नहरपार के किसानों की एक बैठक प्रहलादपुर गांव में आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता किसान संघर्ष समिति ग्रेटर फरीदाबाद के अध्यक्ष शिवदत्त वशिष्ठ, एडवोकेट की अध्यक्षता में आयोजित की गई। जिसमें हुड्डा सरकार के खिलाफ नारे लगाकर नहरपार अधिग्रहित जमीन की भी जाँच सी0बी0आई0 से कराने की मांग की गई। हुड्डा सरकार ने पांच गांव प्रहलादपुर, बडौली, फज्जूपुर, मिर्जापुर, सिही की कुल 638$74 एकड जमीन पर सैक्शन 4 लगाने के बाद इस जमीन मे से  246$51 एकड जमीन पर सैक्शन 9 लगा कर एवार्ड सुनाया व बाकी 392$23 एकड जमीन का मोटे मुनाफे पर प्राईवेट बिल्डरों को सी0एल0यू0 दे दिया गया अगर किसान सरकार से अपनी जमीन रिलिज कराने की बात करने के लिए जाते तो उनसे बात नहीं की जाती और उन्हें वहां से भगा दिया जाता । हुड्डा सरकार ने नहरपार के किसानों की मात्र 16 लाख रूपये प्रति एकड के हिसाब से अफसरों से मिलकर अधिग्रहित कराया था। कई वर्षो से अपनी अधिग्रहित जमीन को लेकर किसान संघर्ष कर रहें हंै। नहरपार के किसान मांग करते है कि जमीन की जांच सी0बी0आई0 से कराई जाये और हुडा सरकार के समय पर जबरदस्ती अधिग्रहित जमीन का पदाफाश किया जाये और नहरपार के किसानों की जमीन वापिस दिलवाई जाये। इस मौके पर मास्टर जय नारायण वशिष्ठ, जय प्रकाश भाटी, ब्रहमदत्त, रामपाल चन्दीला, श्रीराम, महेन्द्र सिंह, मास्टर ज्ञान सिंह, किशन सिंह, अजीत सिंह नम्बरदार, वीरपाल, विजन, हरिन्द्र, सुभाष, धर्मसिंह, विशन, सुखबीर, ओमप्रकाश आदि किसान मौजूद थे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: