Tuesday, February 27, 2018

फरीदाबाद के बी के हॉस्पिटल स्टाफ नर्स पर गर्भवती से रिश्वत लेने का आरोप



फरीदाबाद(abtaknews.com)-: मल्टीनेशनल हॉस्पिटल की तर्ज पर बनाये गए फरीदाबाद के सिविल हॉस्पिटल बादशाह खान में घोर लापरवाही के का आरोप लगा है, आरोप है अस्पताल में एक महिला ने बच्चे को जन्म दिया लेकिन स्टाफ नर्स और डाक्टरों द्वारा इलाज में लापरवाही बरतने के चलते बच्चा डिलीवरी स्ट्रेचर के तीन फ़ीट नीचे रखे डस्टबीन में गिर गया, जब बच्चे को जन्म देने वाली माँ ने शोर मचाया तो स्टाफ नर्स दौड़ी आई और बच्चे को आनन फानन में डस्टबीन से उठा कर NICU में भर्ती करवाया। आरोप है कि स्टाफ नर्स उलटा प्रसूता पर भड़कने लगी।कुछ घंटो के इलाज के बाद बच्चे की गंभीर हालत को  देखते हुए उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया गया।  इतना ही नहीं अस्पताल ने अपनी लापरवाही को छुपाने के लिए महिला की आज सुबह छुट्टी कर दी लेकिन फिर अस्पताल ने एक बड़ी लापवाही कर दी डिस्चार्ज महिला को घर तक जाने के लिए कोई सरकारी एम्बुलेंस मुहईया नहीं कराई। जिसके बाद महिला किराये का ऑटो रिक्शा करके अपने घर पहुंची। फिलहाल अस्पताल के पीएमओ इस मामले में जांच की बात कर कार्रवाई की बात कर रहे है। 

केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों मिलकर बेटी बचाओ बेटी बचाओ जननी सुरक्षा को सार्थक करने में जुटी है लेकिन कुछ इस तरह के  बड़े लापरवाही के मामले सामने आने से सरकार की इस योजना पर बट्टा लग रहा है। ताजा मामला है फरीदाबाद का जहाँ  मल्टीनेशनल हॉस्पिटल की तर्ज पर बनाये गए सिविल हॉस्पिटल बादशाह खान पर. आरोप लगा है की एक महिला 26 की रात एक -डेढ़ बजे डिलीवरी करवाने अस्पताल में आई थी ,लेकिन सटाफ नर्स  ने उससे इलाज के नाम पर 2000 रूपये की रिश्वत मांगी और एक हजार रूपये रिश्वत भी ले लिए। जिसके बाद सुबह 7 और 7.30 बजे महिला ने एक बच्चे को जन्म दिया लेकिन जब महिला को लेबर पेन हो रहा था तब एक भी स्टाफ नर्स और डाक्टर मौके पर मजूद नहीं थे जिसके चलते उसका बच्चा लेबर स्ट्रेचर के तीन फ़ीट निचे रखे डस्टबीन में गिर गया ,बच्चा गिरते ही महिला ने शोर मचा दिया जिसके बाद  स्टाफ नर्स दौड़ी आई और बच्चे को आनन फानन में डस्टबीन से उठा कर उसे NICU में भर्ती करवाया और उसे यह तक नहीं बताया की उसने जिस बच्चे को जन्म दिया है वह बेटा है या बेटी।उलटा स्टाफ नर्स उसी पर भड़कने लगी।कुछ घंटो के इलाज के बाद बच्चे की गंभीर हालत को  देखते हुए उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया गया। इतना ही नहीं अस्पताल ने अपनी लापरवाही को छुपाने के लिए महिला की आज सुबह छुट्टी कर दी लेकिन फिर अस्पताल ने एक बड़ी लापवाही कर दी डिस्चार्ज महिला को घर तक जाने के लिए कोई सरकारी एम्बुलेंस मुहईया नहीं कराई जिसके बाद महिला किराये का ऑटो रिक्शा करके अपने घर पहुंची। अस्पताल के पीएमओ से बात की गई तो उन्होंने कहा की इस घटना में जाँच कमेटी बना दी गई है जांच  में जो भी दोषी पाया गया उसके खिलाफ उचित कारवाही की जाएगी। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: