Sunday, February 25, 2018

भारतीय मजदूर संघ हरियाणा का अधिवेशन संपन्न, नई कार्यकारणी गठित, महत्वपूर्ण प्रस्ताव हुए पारित


फरीदाबाद-25 फरवरी(abtaknews.com) भारतीय मजदूर संघ हरियाणा का 20 वें त्रैवार्षिक अधिवेशन फरीदाबाद में संपन्न हुआ जिसमें श्रमिक वर्ग के हित में कई महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित किए गए है। श्रमिक वर्ग के कल्याण के लिए  चिंतन व मंथन हुआ। भारतीय मजदूर संघ हरियाणा की नई कार्यकारणी गठित की गई जिसमें वेद प्रकाश सैनी को अध्यक्ष एवं सी बी चौहान को कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया गया। भारतीय मजदूर संघ क्रमवार सभी सांसदों को ज्ञापन देकर अपने मांगपत्र पर संसद में चर्चा कराने का आग्रह करेंगा। 

सेक्टर 19 स्थित अग्रसैन भवन में भारतीय मजदूर संघ हरियाणा द्वारा आयोजित दी दिवसीय शिविर का उद्घाटन श्रम एवं रोजगार मंत्री नायब सिंह सैनी ने और समापन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के हरियाणा प्रांत संघ चालक पवन जिंदल ने किया। संघ चालक जिंदल ने कहा कि मजदूर समर्थवान बनेगा तो समाज व राष्ट्र भी उन्नत होगा। आपसी भाईचारा बनाये रखने के लिए सभी का विकास होना जरूरी है। दो दिन चले इस शिविर में श्रमिक वर्ग से जुडी सभी योजना-प्रयोजनाओ के यथार्थ पर होने वाले किर्यान्वयन की खामियों पर चर्चा हुई। श्रमिक नीतियों का श्रमिक वर्ग को किस तरह फायदे मिले इसकी रूप रेखा बनाई गई। भारतीय मजदूर संघ के बीते तीन साल की गतिविधियों और आगामी वर्षों की सभी योजनाओं पर विस्तृत रूप से चिंतन एवं मंथन हुआ। 

भारतीय मजदूर संघ हरियाणा की नई कार्यकारणी बनाई गई जिसमें  अध्यक्ष वेद प्रकाश सैनी, कार्यकारी अध्यक्ष सी बी चौहान, उपाध्यक्ष शशी भास्कर, रामतीर्थ यादव, जे पी कौशिक, महामंत्री हनुमान गोदारा, मंत्री पदम् सिंह, , वीरेंद्र शर्मा, सुनीता धीमन,कृष्ण लाल गुर्जर, वित्त मंत्री सुभाष चंद्र वर्मा, नियुक्त किये गए हैं. चुनाव अधिकारी रोहताश यादव, प्रस्तावक हवा सिंह और अनुमोदक जंगबहादुर यादव थे। नवनियुक्त कार्यकारी अध्यक्ष सी बी चौहान ने बताया कि शिविर में मुखयरूप से पारित किये गए प्रस्तावों में ठेका मजदूरों, योजना कर्मियों आंगनवाड़ी, आशावर्कर, मिड डे मील वर्कर, सफाई कर्मचारियों, दैनिक वेतन भोगियों, केजुअल, वर्करज का स्थाईकरण किया जाना। इनफॉर्मल सेक्टर के सभी कर्मचारियों को सामाजिक सुरक्षा के तहत ईएसआई, ईपीएफ और गॉरन्टी और पेंशन आदि का लाभ सुनिश्चित किया जाए। कर्मचारी भविष्य निधि पैंशन योजना 1995 को एआईसीपीआई (अखिल भारतीय उपभोगता मूल्य सूचकांक ) के साथ जोड़ा जाए। कर्मचारी के स्थाईकरण तक समान काम समान वेतन मिलना सुनिश्चित, स्थाई कर्मचारी के समान ही छुट्टियां, भत्ते, ओवरटाइम, भुगतान की व्यवस्था हो। निति आयोग द्वारा सुझाये गए समान काम समान वेतन के सिद्धांत और नियमों के विरुद्ध सुझाए गए संशोधनों का कड़ा विरोध किया गया। प्रदेश व देश में रोजगारोन्मुख योजनाओं का किर्यान्वन किया जाये। सार्वजनिक प्रतिष्ठानो का विनिवेश बंद किया जाए।    
दो दिन तक चले इस शिविर में अध्यक्ष जंग बहादुर यादव और प्रदेश उपाध्यक्ष सी बी चौहान,सुभाष चंद्र वर्मा, शशि भास्कर, विनय कुमार सिंह, रोहताश यादव, हनुमान गोदारा, आर सी कटोच, अशोक वर्मा, कमल सिंह, कुवरपाल शर्मा, प्रेस सिंह रावत, मटरू लाल,ताराचंद त्यागी, नीरज त्यागी सहित महिला प्रतिनिधियों का विशेष योगदान रहा।



loading...
SHARE THIS

0 comments: