Tuesday, January 30, 2018

क्षेत्रवासियों के लिए रामबाण सिद्ध होगी धर्मार्थ डिस्पेंसरी: मदन पुजारा


 
Raman will prove to be the best place for the residents: Madan Pujara
फरीदाबाद(abtaknews.com) देवस्थल मंदिर  का  त्रिदिवसीय स्थापना दिवस धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर देवस्थल मंदिर द्वारा देवस्थल धर्मार्थ चिकित्सा परामर्श केन्द्र का शुभारंभ किया गया। यह जानकारी देते हुए मंदिर के  प्रधान मदन पुजारा ने बताया कि  इस धर्मार्थ चिकित्सा केन्द्र की मांग बहुत पुरानी थी जो आज पूरी हो गयी जिससे क्षेत्रवासी काफी प्रसन्न है। उन्होंने बताया कि इस धर्मार्थ चिकित्सा केंन्द्र में प्रतिदिन फिजियोथेरेपी होगी एवं सप्ताह में 5 दिन एमबीबीएस डाक्टरो की टीम यहां अपनी सेवाएं देंगे और आये हुए लोगों के स्वास्थ्य की  जांच करेंगे।

इस अवसर पर श्री पुजारा ने कहा कि इस क्षेत्र के निवासियों के लिए यह धर्मार्थ डिस्प्ेंसरी रामबाण साबित होगी। उन्होंने कहा कि लोगों को काफी जरूरत थी जिसे पूरा किया जा चुका है जिसके लिए समस्त क्षेत्रवासियों का भी काफी सहयोग रहा है। श्री पुजारा ने बताया कि यहां आने वाले मरीजों को निस्वार्थ श्री खुराना (इण्डियन मेडिकल स्टोर सैैक्टर 37, फरीदाबाद) स्वयं (लागत मूल्य पर बिना किसी मुनाफे) के दवाईयां वितरित करेंगे ताकि किसी को दवाईयों की समस्या ना रहे। उन्होंने बताया कि इस चिकित्सा केन्द्र में मुख्य रूप से  डा. पी एल जिंदल, सामान्य चिकित्सक एवं चेस्ट स्पेशलिस्ट,डा. राकेश कुमार हडड़ी एवं जोड रोग विशेषज्ञ, डा. श्रीमती के.एस.अनामिका, डा. आदित्य कुमार फिजियोथेरेपी स्पेशलिस्ट के तोर  पर अपनी बेहतर सेवाएं देंगे जो कि यहां के निवासियों की मांग भी थी।

उन्होंने बताया कि महिला दिवस पर इस धमार्थ चिकित्सा केन्द्र में सेवाएं देने वाले सभी डाक्टरों को स्मृति चिन्ह एवं शॉल पहनाकर सम्मानित भी किया गया जो कि मंदिर कमेटी ने तय किया हुआ है। इस अवसर पर वरिष्ठ समाजसेवी एवं वरिष्ठ नागरिक श्री गुलाटी, पंकज गोयल ने इस धमार्थ चिकित्सा केन्द्र का रिबन काट कर शुभारंभ किया। इस अवसर पर अध्यक्ष मदन पुजारा, महामंत्री नरेश वांचू, एल आर गोयल, एच सचदेवा, रेनू त्रेहन, बलदेव खंडूजा, उपकार पचौरी, पी के झा, योगिता पुजारा, सुमन शर्मा, एस के पुरी, सुनील मिश्रा, डा. रस्तोगी, अजय धीमान, ज्वाला प्रसाद, राजीव थुस्सु, राहुल पाण्डे, अमरीता पाण्डे, दीपक शर्मा आदि उपस्थित थे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: