Sunday, January 7, 2018

ईंट भट्टे पर बच्चे करते हैं बालमजदूरी, मुंशी ने कहा खेल खेल में करते हैं बच्चे काम


Children do brick kiln on the brick, Munshi said in the game play do children work

फरीदाबाद (दुष्यंत त्यागी abtaknews.com) 07 जनवरी,2018 ; एक तरफ हरियाणा सरकार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा देते नहीं थकती तो वही दूसरी ओर फरीदाबाद में इसके बिल्कुल विपरीत नजारा देखने को  मिला। फरीदाबाद के गांव नरियाला स्थित ईटो के भट्टे पर दर्जनों की संख्या में 8 से 10 साल के बच्चे भारी भरकम बोझ ढोने का काम करते नजर आए | भट्टे के मुंशी ने इस बाल मजदूरी पर अटपटा जबाब देते हुए कहा की बच्चे तो यहां खेलने आते हैं और खेल खेल में ही बोझ ढोने का काम करते हैं।  

हरियाणा सरकार के लाख प्रयासों के बाद भी हरियाणा से बाल मजदूरी रुकने का नाम नहीं ले रही ऐसा ही कुछ नजारा उस समय हमारे कैमरों में कैद हुआ जब हम फरीदाबाद के नरियाला स्थित ईट भट्टा कंपनी में पहुंचे जहां पर दर्जनों की संख्या में मासूमों से इतना भारी भरकम काम करवाया जा रहा था कि शायद कोई बड़ा आदमी भी इस काम को करने में सक्षम ना हो जब हम ने इस बाबत वहां काम कर रहे बच्चों से पूछा तो उन्होंने बताया कि उनकी मेहनत का पैसा उनके मां बाप को दिया जाता है लेकिन इस मेहनत का क्या फायदा जो उन मासूमों से उनका बचपन ही छीन ले जब इस मामले के बारे में भट्टे पर मौजूद मुंशी से पूछा गया तो उसने बताया कि बच्चे तो यहां खेलने के लिए आते हैं और वह खेल खेल में है काम करते हैं


छायंसा थाना अध्यक्ष मोहिन्दर ने बताया कि उन्हें मीडिया का माध्यम से जानकारी मिली है और इस पूरे मामले की वह गंभीरता से जांच करेंगे यदि भट्टा मालिक इस पूरे मामले में दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जाएगी| सामाजिक संस्था जनसेवा वाहिनी के महासचिव दिवाकर मिश्रा का कहना है कि कोई भी सरकार ऐसे बच्चों की शिक्षा को लेकर गंभीर नहीं है। मोबाइल स्कूल के माध्यम से ही ऐसे बच्चों को शिक्षित किया जा सकता है। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: