Saturday, January 6, 2018

आईएमटी किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने की उद्योगमंत्री विपुल गोयल से मुलाकात

 IMT farmers delegation meet industry minister Vipul Goyal

फरीदाबाद(abtaknews.com ) 06 जनवरी,2018 ; आईएमटी में अपनी मांगों को लेकर पिछले 21 दिनों से धरने पर बैठे पांच गांवों के किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल आज भाजपा जिला सचिव बिजेंद्र नेहरा सागरपुर के नेतृत्व में उद्योगमंत्री विपुल गोयल से उनके सेक्टर-16 स्थित कार्यालय में मिला।
 IMT farmers delegation meet industry minister Vipul Goyal

उद्योगमंत्री विपुल गोयल ने किसानों की सभी मांगों व समस्याओं को गंभीरता पूर्वक सुनते हुए कहा कि किसान भाई परेशान न हो भाजपा सरकार पूरी तरह से किसान हितैषी सरकार है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने जो वायदे किसानों से किए है, उन्हें अवश्य पूरा किया जाएगा और वह परेशान न हो, जहां तक उनके मुआवजे की बात है तो इस मामले को लेकर वह जल्द ही मुख्यमंत्री से मिलकर उन्हें मुआवजा दिलवाने का कार्य करेंगे। इसके अलावा किसानों द्वारा दिए गए मांगपत्र में अंकित अन्य मांगों को भी उन्होंने पूरा करवाने का आश्वासन दिया। हालांकि किसानों ने धरना समाप्त करने से पूरी तरह से मना कर दिया। प्रतिनिधिमंडल में किसान संघर्ष समिति के प्रधान रामनिवास नागर, किशन धनखड़, मोहन डागर, कुलदीप यादव, संजय सैनी, जीतराम डागर, रचना शर्मा पूर्व सरपंच, देवेंदर उफऱ् डिप्टी, किशन यादव, चंद्रभान यादव, गिर्राज धनकड़ , दयानन्द सैनी आदि मुख्य रुप से मौजूद थे। बाद में भाजपा के जिला सचिव बिजेंद्र नेहरा सागरपुर ने किसानों की तरफ से उद्योगमंत्री विपुल गोयल का आभार जताते हुए कहा कि उन्होंने किसानों को जो आश्वासन दिया है, उससे उनमें एक उम्मीद जगी है कि उनका रुका हुआ मुआवजा उन्हें जल्द मिल जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार किसान, मजदूर, कमेरा, उद्योगमंत्री, दुकानदार सभी वर्गाे के हितों के लिए कार्य कर रही है और किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार ने अनेकों योजनाएं क्रियान्वित की हुई है।  गौरतलब है कि पिछले करीब 21 दिन से आईएमटी के अंतर्गत आने वाले पांच गांवों के किसान अपने रुके हुए मुआवजे को लेकर चंदावली में धरना दिए हुए थे। गत दिनों में उन्होंने विपुल गोयल से मिलने आए थे  परंतु उनकी अनुपस्थिति मेें किसानों ने उनके भाई को मांगपत्र सौंपा था। आज किसानों और उद्योगमंत्री के बीच हुई वार्ता के सार्थक परिणाम आने वाले समय में मिलने की उम्मीद किसानों में जगी है।


loading...
SHARE THIS

0 comments: