Wednesday, December 6, 2017

वीर एकलव्य दल ने मनाया डा. भीमराव अंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस

 Veer Eklavya Dal celebrates Mahaparinirvana day of Dr. Bhimrao Ambedkar

फरीदाबाद(abtaknews.com) 06 दिसंबर,2017: भारतीय संविधान निर्माता बाबा साहेब डा.भीमराव अ बेडकर जी के महापरिनिर्वाण दिवस पर वीर एकलव्य दल द्वारा सैक्टर-12 स्थित टाउन पार्क में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। इस मौके वीर एकलव्य दल के प्रधान जितेंद्र चंदेलिया व पंजाब एवं हरियाणा बार काउंसिल की एनरोलमेंट कमेटी के चेयरमैन ओपी शर्मा तथा खेमचंद सैनी तथा वहां उपस्थित सैंकडों कार्यकताओं और पदाधिकारियों ने बाबा साहेब की मूर्ति पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया। इस अवसर पर जितेंद्र चंदेलिया ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि 20वीं शताब्दी के श्रेष्ठ चिन्तक, ओजस्वी लेखक, तथा यशस्वी वक्ता एवं स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री डा. भीमराव अंबेडकर भारतीय संविधान के प्रमुख निर्माणकर्ता हैं। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब अथक परिश्रमी एवं उत्कृष्ट कौशल के धनी व उदारवादी व्यक्ति थे। उन्होनें कहा कि हमारी आने वाली पीढ़ी को बाबा साहेब द्वारा किए गए त्याग व सामाजिक भावना से प्रेरित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब ने समाज को तीन मूल मंत्र दिए शिक्षित बनो-संगठित रहो-सर्घष करो। इन तीन मूल मंत्रों को समाज के अन्य लोगों ने अपने जीवन में उतार कर अपनी व अपने समाज की तरक्की की परन्तु बाबा साहेब का समाज अभी भी इस मूल मंत्र की ताकत को नहीं समझ पाया है। कार्यक्रम को अन्य वक्ताओं ने भी संबोधित किया व अपने शब्दों के माध्यम से बाबा साहेब को श्रृद्धांजलि अर्पित की। ओ.पी. शर्मा ने कहा कि बाबा अंबेडकर ने देश में पिछड़े व गरीबों के हितों की रक्षा के लिए अपना संपूर्ण जीवन समर्पित कर दिया और डा. अंबेडकर के प्रयासों के चलते ही पिछडे व गरीब लोगों को अपने अधिकार मिल सके और समाज में उन्हें भी स्वतंत्रता से जीवन जीने की आजादी मिली, जिसके चलते लोग उन्हेंबाबासाहेब के नाम से पुकारते है।


loading...
SHARE THIS

0 comments: