Thursday, December 21, 2017

चौपट हो गई है फरीदाबाद की ट्रैफिक व्यवस्था, पुलिस कर्मी चालान काटने में मस्त


फरीदाबाद 21 दिसंबर। नेशनल हाईवे हो या फिर फरीदाबाद के अन्दरूनी इलाके सभी जगह ट्रैफिक व्यवस्था चौपट हो गई है। इसका कारण है कि पुलिस कर्मी ट्रैफिक कर्मी ट्रैफिक को नियत्रंण करने की बजाय चालान काटने को महत्व देते है और ऐसा वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की लापरवाही के कारण हो रहा है, जो अपने कार्यालयों से बहार आकर कभी मौके का औचक निरीक्षण नहीं करते है।  वैसे तो फरीदाबाद में मेट्रो से लेकर हाईवे को सिक्स लेन करने का कार्य चल रहा है। लेकिन पुलिस कर्मी हो या ट्रैफिक पुलिस के जवान सभी ट्रेफिक को नियंत्रित करने की बजाय एक साईड में बैठ कर या तो चालान काटने में मस्त रहते है या फिर नदारद मिलते है। जिसके कारण हाईवे से लेकर शहर के  अन्दरूनी इलाकों में जाम लगा रहता है। जबकि गुडगांव में फरीदाबाद से कही बेहतर यातायात व्यवस्था है। केवल होम गार्ड के जवान ही कहीं- कहीं ट्रैफिक को नियंत्रित करते नजर आते है और उनका ध्यान भी उन दुपहिया वाहन चालकों की ओर होता है, जो बिना हेलमेट या दूसरे कारण इनके चुगंल में फस जाते है। फिर शुरू होता मोटे चालान का भय दिखाकर पैसा वसूलने का काम। मरता क्या नहीं करता की कहावत पर चलते हुए ये लोग उन्हे भेंट चढाकर आगे निकल जाते है। यहीं कारण है कि नेशनल हाईवे से लेकर शहर भर में जाम की स्थिति बनी रहती है। खासतौर पर नेशनल हाईवे के पुलों के नीचे बनाए गए सबवे को पार करना वाहन चालकों के लिए दुश्वर हो जाता है। दोपहर को तो टैफिक को नियंत्रित करने वाला को कोई पुलिस कर्मी दिखाई ही नहीं देता है। केवल आस-पास बैठकर गप्पे हाकते रहते है।   सरकार वाहन चालकों को सुधारने के लिए जितने कड़े कानून बनाती है, उतना ही उसका फायदा पुलिस कर्मी चालान की फीस बताकर अपनी उपरी कमाई करने के लिए करते है। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: