Monday, December 18, 2017

पलवल में शहीद की पत्नी ने झंडी दिखा समरस गंगा रथ यात्रा का किया शुभारंभ

Shaheed's wife flagged off Samaras Ganga Rath Yatra in Palwal

हथीन(abtaknews.com ) समरस गंगा, याद करो कुर्बानी कार्यक्रम को लेकर समाज में उत्साह की लहर है। हथीन नगर के लोगो ने उत्साह दिखाते हुए सोमवार को समरस गंगा याद करो कुर्बानी रथ यात्रा का शुभारंभ किया। इस रथ यात्रा को 1971 की लड़ाई में शहीद राजेन्द्र की पत्नी रामवती ने हरी झंडी दिखा कर क्षेत्र में रवाना किया। इस अवसर पर शहीद की पत्नी कहा कि समरस गंगा महोत्सव शहीदों के परिवारों के लिए अभूतपूर्व सम्मान का महोत्सव है। इस अवसर पर सैंकड़ो नवयुवकों ने भारतमाता की जयघोष के साथ बंदेमातरम् का नारा देते हुए शहीद रथ का अनुशरण करते हुए शहर के विभिन्न भागों में रथयात्रा घुमा कर शहीदों का सम्मान किया। हथीन क्षेत्र में शहीद रथ यात्रा समरस गंगा याद करो कुर्बानी को लेकर लोगों ने उत्साह दिखाते हुए शहीदों के चित्र पर फूलमाला चढ़ाई। 

इस अवसर पर कैप्टन दयाराम ने जानकारी देते हुए बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा किया जा रहा कार्यक्रम समरस गंगा, याद करो कुर्बानी कार्यक्रम में सभी शहीदों के गांव की रज को लेकर गांव-गांव में कलश की स्थापना की जा रही है।  उन्होंने बताया कि 31 दिसंबर 2017 को नेता जी सुभाष चन्द्र बोस स्टेडियम, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय पलवल के प्रांगण में भारत माता का मंदिर स्थापित कर देश के साधु-संतो द्वारा सभी गांवों से आने वाले शहीदों के गांव की रज से स्थापित कलशों का पूजन कर सम्मानित किए जाएगें। उन्होंने बताया कि गांव में कलश स्थापना के बाद गांवो में प्रतिदिन हवन किया जा रहा है। पूर्व सैनिकों ने बताया कि गांव व खण्ड स्तर पर  वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के इस कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति पूर्ण रूप से दर्ज करा रहे हैें क्योंकि यह कार्यक्रम जहां एक ओर समाज को जोडऩे का काम करने का काम कर रहा है, वहीं दूसरी ओर शहीद सैनिकों के सम्मान को होते देख लोगों में सेना के प्रति सम्मान की भावना जागृत हो रही है। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम से उन माताओं को भी गौरव का अहसास होगा जिनके पुत्रों ने देश के लिए अपना जीवन समर्पित किया  हुआ है। कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए उन्होंने ने कहा कि समाज में ऐसे कार्यक्रम अवश्य ही होने चाहिए ताकि समाज से युवाओं में राष्ट्रभक्ति की सोच जागृत हो। उन्होंने कहा कि देश का सम्मान सैनिकों की रग में खून बनकर दौड़ता है। इस कार्यक्रम के दौरान भारत माता के मंदिर में शहीदों का सम्मान होना, सैनिकों व देशवासियों के लिए गौरव का विषय है।
इस अवसर पर फौजी किशन सिंह, चन्द्रभान गौड़, अमर सिंह नम्बरदार हथीन, भारत भूषण, अनिल कुमार, उदयचंद शर्मा, सुमेर सिंह, सतपाल सिंह, यशपाल सिंह, हरिओम भागर्व, देशराज सिंह, पोसवाल, सतवीर सहरावत रतिपुर, सूवेदार महेन्द्र सिंह, सुवेदार ब्रजलाल, फूलसिंह, प्रहलाद, प्राचार्य कर्मवीर सिंह, रामपाल सिंह, मास्टर राहुल सिंह, सतीश कुमार, जीतन, भम्भोली सहित अन्य सभी पूर्व सैनिक मौजूद थे।


समरसता यज्ञों के जयकारों से गूंज रहे गांव, नगर
हथीन। 10 नवम्बर से जिले में तैयार की गई समरस गंगा महोत्सव के लिए बने माहौल के बाद से ही नगर और गांवों में उत्सव का माहौल है। जिसके चलते गावों में एक के बाद एक हो रहे समरसता यज्ञ एवं बैठकों में लोगों का उत्साह देखते ही बनता है। नगर में जहां एक ओर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यक्रम की बागडोर संभाले हुए है, वहीं दूसरी ओर सभी समाजिक संस्थाओं व पूर्व सैनिकों ने भी एक जुटता दिखाते हुए समरस गंगा महोत्सव को चार चांद लगाने में कोई कसर नही छोड़ी है। जिलें में गांव हो या शहर समरस गंगा कार्यक्रम को लेकर जगह-जगह पर सैकड़ो यज्ञों का आयोजन हो चुका है व 487 बैठकों का आयोजन समाज समरसता के लिए कर चुका है। समरसता यज्ञ राष्ट्रहित व देशभक्ति के इस कार्यक्रम में लोगों के उत्साह का परिचायक बने हुए हैं। इसी श्रृंखला में रविवार को नगर व आस-पास के इलाकों में 11 स्थानों पर समरसता यज्ञ का आयोजन कर, समरस समाज बनाने के संकल्प के साथ आहूतियां दी। सोमवार को गांव बहीन व भमरोला में दो जगहों पर महायज्ञ का आयोजन किया गया जिसमें सैकड़ो लोगों ने समाज की सज्जन शक्ति को संगठित करने का संकल्प ले आहूतियां दी। शहर में भी ससरसता महोत्सव को लेकर दयावस्ती, भगत सिंह बस्ती, गुरूगोविन्द सिंह, मोहन नगर, नया गांव आदर्श कॉलोनी, मालगोदाम रोड़, शिवमंदिर श्याम नगर, कुशलीपुर सहित अनेक स्थानों पर यज्ञों का आयोजन किया गया।




loading...
SHARE THIS

0 comments: