Wednesday, December 6, 2017

पूर्व विधायक आनंद कौशिक ने कार्यकर्ताओं संग मनाया बाबा साहब का महापरिर्वाण दिवस

 Former MLA Anand Kaushik celebrates the birthday of Baba Saheb with Congress workers

फरीदाबाद, 6 दिसम्बर( Abtaknews.com ) संविधान निर्माता बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर का महापरिर्वाण दिवस ओल्ड फरीदाबाद स्थित भीम बस्ती में लगी बाबा साहब की प्रतिमा पर फरीदाबाद के पूर्व विधायक आनन्द कौशिक, हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव व गुडगांव कांगे्रस प्रभारी बलजीत कौशिक ने फूल चढ़ाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर उन्होंने क्षेत्रवासियों व कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि डा. भीमराव अम्बेडकर पूरे भारत वासियों के लिए पूज्नीय और वंदनीय हैं। उन्होने भारत को विश्व का सबसे अच्छा संविधान दिया हैं। आज उनके द्वारा बनाये संविधान के द्वारा ही सबको समान विकास का अवसर मिल रहा हैं। वे सिर्फ दलित समाज के ही नही बल्कि पूरे देश के हर समाज को उनके अधिकार दिलाने वाले थे। भारत के सभी लोग उनके प्रति कृतज्ञ हैं।
श्री कौशिक ने कहा कि बाबा साहब अम्बेडकर नारी के मुक्तिदाता थे, गरीबों के हितैषी थे, मजदूरों के काम के घंटे निश्चित किये, दलितों को समाज के सभी वर्गो के समान अधिकार और सम्मान दिलाने वाले, देश की जनता को राजनिति के जरिये अपना नेता चुनने का अधिकार दिलाने वाले नेता के रूप में सदा याद किया जायेेगा। उन्होने कहा कि डा. अम्बेडकर को सबसे ज्यादा इस बात के लिये भी याद किया जाता हैं कि उन्होने हिन्दू समाज की अन्यायपूर्ण परंपराओं के खिलाफ डटकर विरोध किया और उन्हें खत्म करने का बीडा उठाया। हजारों सालों से दबे कुचले अनुसूचित जाति के लोगो को उन्होंने मुख्य धारा मे लाने का काम किया।
बलजीत कौशिक ने कहा कि बाबा साहब अम्बेडकर को तत्कालीन प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू अपने मंत्रीमंडल मे लेकर आये ताकि देश को विश्व प्रसिद्ध शिक्षाविद्, अर्थशास्त्री, विद्वान मिल सके और देश की प्रगति के लिए लिये जाने वाले अहम फैसलों मे विशेष योगदान दे सकें।
इस अवसर पद मेहरचंद पाराशर, महेन्द्र यादव, आर.पी.बत्रा, रतन सिंह, रमेश पेंटर, राजेश दहिया, अशोक, सुभाष, हरिचंद, महेन्द्र, विनोद कौशिक, रतन सिंह सैनी, रामप्रवेश, अनिल कुमार, श्रवण कुमार, बंटी, राजेश कुमार, गिर्राज मास्टर, राजकुमार, सूरज, कमलेश कुमार, यासिन अली, पुनीत सहित कांग्रेस कार्यकर्ता विशेष रूप से मौजूद थे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: