Wednesday, December 27, 2017

महिला सुरक्षा महीने में दागदार हुई खाकी, महिला से छेड़छाड़ पर पुलिस कर्मी पर 376-377 केस


 376 and 377 case of khaki stained in female security month, police worker on manipulation of woman

फरीदाबाद (abtaknews.com ) 27 दिसंबर,2017 ; महिला सुरक्षा महीने में दागदार हुई खाकी, महिला से छेड़छाड़ पर पुलिस कर्मी पर 376 व 377 का केस दर्ज हुआ है। नीमका जेल में अपने देवर कैदी से मिलने गई महिला के साथ जेल के अंदर वार्डन ने किया था बलात्कार कल मिलने गई थी महिला अपने देवर से पुलिस को दिए बयान में सारी घटना का हुआ खुलासा पुलिस ने जेल वार्डन के खिलाफ किया बलात्कार और कुकर्म जैसी संगीत धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज अब तक जेल में आत्महत्या, मादक पदार्थों का मिलना, मोबाइल मिलना जैसी घटनाएं आ रही थी सामने दिनदहाड़े वर्दी वाले ने जेल के अंदर बलात्कार जैसी घटना को अंजाम देकर  हरियाणा पुलिस को शर्मसार कर दिया है। 


फरीदाबाद की जिला नीमका जेल में एक कैदी से मिलने पहुंची  महिला के साथ जेल कर्मचारी द्वारा जबरदस्ती करने का सनसनी खेज मामला सामने आया है इस छेडख़ानी की पुष्टि एक अन्य महिला ने भी की है जिसने इस जबरदस्ती को अपनी आँखों से देखा । यह चश्मदीद महिला भी अपने किसी परिजन से मिलने आई थी ।इस घटना के बाद जेल के बाहर परिजनों ने हंगामा कर दिया मोके पर पहुंचे पुलिस अधिकारिओ का कहना था की एक महिला ने एक ,पुलिस कर्मचारी पर जबरदस्ती करने के संगीन आरोप लगाया है जिसपर महिला की शिकायत पर कार्यवाही की जा रही है और जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी । जिन पुलिस कर्मियों पर जेल में बंद खूखार कैदियों पर निगरानी रखने की अहम् जिम्मेदारी होती है यदि वही कर्मचारी अपराध करने पर उतारू हो जाए तो जेल प्रशासन और उसकी कार्यशैली पर सवाल लगना लाजमी है. जी हाँ हम बात कर रहे है फरीदाबाद की नीमका जेल की जहाँ अपने देवर से मिलने आयी एक महिला को जेल पुलिस कर्मी ने अपनी हवस  का शिकार बनाना चाहा। 

इस बात की खबर जब परिजनों को लगी तो उन्होंने जेल के बाहर हंगामा खड़ा कर दिया यही नहीं इस छेडख़ानी की पुष्टि एक अन्य महिला ने भी की है जिसने इस जबरदस्ती को अपनी आँखों से देखा यह चश्मदीद महिला भी अपने किसी परिजन से मिलने आई थी । पूनम नाम की इस चश्मदीद महिला ने बताया की हम अपने कैदी से मुलाकात कर चुके थे उसके बाद पीडि़त महिला अपने देवर कैदी से मुलाकात कर रही थी तभी उस कैदी ने अपनी भाभी से कहा की यह पुलिस वाला अपना भाई है तुम इससे इसका फोन नंबर ले लो ताकि इसके बाद हमारी बात फोन पर होती रहेगी। चश्मदीद महिला ने बताया की इसके बाद वह पुलिस वाला महिला को फोन नंबर देने के बहाने ले गया और दरवाजा बंद कर जबरन छेडख़ानी शुरू कर दी. पीडि़त महिला के भाई और माँ ने बताया की मुलाक़ात के दौरान पुलिस वाले ने फोन नंबर देने के बहाने उसकी बहन को ले गया और अंदर जाकर उसके साथ ज़बरदस्ती करना शुरू कर दिया। उनका कहना था की पुलिस वाले ने उनकी बहन और बेटी के साथ बहुत गलत किया है जिसकी शिकायत उन्होंने मौके पर पहुंचे एसीपी को दे दी है और पीडि़ता का बयान भी दर्ज करवा दिया है। 

जेल के बाहर हंगामे की सूचना पाकर आला अधिकारियों सहित पुलिस मौके पर पहुंच गयी. पत्रकारों से बातचीत करते हुए एसीपी ने बताया की 164 के तहत महिला के बयान दर्ज कर लिए है जिसमे महिला ने एक पुलिस कर्मी द्वारा जबरदस्ती करने के आरोप के अलावा कई संगीन आरोप भी लगाए है. उनका कहना था की हर तरीके से जांच की जायेगी और जो भी दोषी होगा उसे बक्शा नहीं जाएगा।  गौरतलब है की फरीदाबाद की जिला नीमका जेल हमेशा ही विवादों के घेरे में रही है इस जेल में जहाँ हर रोज कैदियों में खुनी संघर्ष की घटनाएं होती रहती है वहीँ मोबाइल मिलने के मामले भी दर्ज हो चुके है लेकिन इस बार एक कैदी से मिलने आयी महिला की अस्मत पर जेल के ही रक्षको ने हाथ डाल  दिया जो जेल प्रशासन के ऊपर सवालिया निशान लगाता है ??? 

loading...
SHARE THIS

0 comments: