Wednesday, December 6, 2017

फरीदाबाद नगर निगम कर्मचारियों को वेतन नहीं, चीन की कंपनी को सरकार दे रही है 330 करोड

Faridabad municipal corporation employees are not getting salary, government is giving the company to 330 crore

फरीदाबाद(abtaknews.com) 06 दिसंबर,2017 ; नगर निगम सफाई कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि हरियाणा सरकार द्वारा चीन की ईको ग्रीन कंपनी को घर - घर जाकर कूडा उठाने का ठेका दिया गया है ऐसा वो बिल्कुल नहीं होने देंगे, ईको ग्रीन कंपनी की गाडियों को रोकेंगे और कंपनी के कार्यालयों का घेराव कर उन्हें फरीदाबाद में सफाई नहीं करने देंगे। कर्मचारी नगर निगम द्वारा समय से वेतन न मिलने से नाराज थे। आज सैंकडों कर्मचारियों ने निगम कार्यालय पर धरना प्रदर्शन किया और निगम से निकाले से कर्मचारियों को वापिस लेने और समय से वेतन देने की मांग की। 

शहर के सफाई मजदूर कर्मचारियों को वेतन देने के लिये सरकार के पास पैसा नहीं है और चीन की कंपनी को 330 करोड देने के लिये भंडार भरे हुए हैं- ऐसा आरोप फरीदाबाद नगर निगम सफाई कर्मचरियों ने सरकार पर लगाते हुए कार्यालय पर प्रदर्शन किया, और चेतावनी दी कि कर्मचारी शहर में ईको ग्रीन कंपनी की गाडियों को नहीं चलने देंगे और न हीं कूडा उठाने देंगे। 

फरीदाबाद और गुरूग्राम की सफाई करने के लिये चीन की कंपनी ईको ग्रीन को हरियाणा सरकार ने 14 अगस्त 2017 को ठेका दिया था, जिसकी शुरूआत फरीदाबाद से ईको ग्रीन की पांच गाडियों को हरी झंडी दिखाकर हाल में कर दी गई है जो कि घर - घर जाकर गीला और सूखा कूडा उठायेंगी। जिसे बंधबाडी में ट्रास्प्लांट करके उससे खाद्य और बिजली बनायेगी। मगर ऐसा तब होगा जब गाडियां घर - घर तक पहुंच के कूडा उठा पायेंगी जिन्हें रोकने के लिये निगम के सफाई कर्मचारियों ने चेतावनी दे डाली है।

नगर निगम सफाई कर्मचारी नेता बलबीर बालगुहेर ने अबतक न्यूज़ पोर्टल टीम को बताया कि आज निगम कार्यालय पर प्रदर्शन करते हुए कहा कि सरकार के पास कर्मचारियों को वेतन देने के लिये पैसा नहीं है और चीन की कंपनी को ठेका देने के लिये 330 करोड हैं,, एक तरफ तो देश में चीनी सामान का बहिष्कार किया जाता है दूसरी ओर सरकार खुद अपने खजाने से चीन को पैसा दे रहा है। इसलिये उन्होंने कहा कि फरीदाबाद में ईको ग्रीन कंपनी के कार्यालयों का घेराव किया जायेगा और शहर में गाडियों को रोका जायेगा।
Faridabad municipal corporation employees are not getting salary, government is giving the company to 330 crore

अपनी न्यायोचित मांगों को लेकर पिछले तीन दिनों से आन्दोलनरत निगम कर्मचारियों ने आज महापौर कैम्प हाऊस का घेराव किया। गौरतलब है कि नगर निगम के कर्मचारी निगम प्रशासन द्वारा 43 सफाई कर्मचारियों, 22 ट्यूबवैल आपरेटरों व आठ गार्डों तथा बिल वितरक विनोद को गैर कानूनी ढंग से निकालने का विरोध करते हुए उनको बहाल करने, 688 कर्मचारियों को निगम रोल पर रखने, आऊटसोर्सिंग में लगे ड्राईवरों को डीसी रेट देने, ईक्रो ग्रीन कम्पनी द्वारा श्रम कानूनों की परिपालना करने, निजी तौर पर घरों में काम करने वाले बाल्मीकि परिवारों को नौकरी देने को व अन्य मांगों को लेकर आन्दोलनरत है। 

गुस्साए कर्मचारियों ने आज निगम महापौर आवास की ओर कूच करते हुए निगम प्रशासन व हरियाणा सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की तथा निगम महापौर सुमन बाला के समक्ष अपनी मांगें रखी। निगम महापौर सुमनबाला ने निगमायुक्त से बात कर जल्द ही बातचीत के माध्यम से समस्याओं का समाधान कराने का आश्वासन दिया, लेकिन संघ नेताओं ने कहा कि जब तक समस्याओं का समाधान नहीं होगा तब तक आन्दोलन जारी रहेगा।आज के इस प्रदर्शन की अध्यक्षता नगरपालिका कर्मचारी संघ जिला कमेटी के सचिव नानकचंद खैरालिया ने किया तथा मंच का संचालन सफाई कर्मचारी यूनियन के सचिव सोमपाल झिझोटिया ने किया।

कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए नगरपालिका कर्मचारी संघ, हरियाणा के राज्य प्रधान नरेश कुमार शास्त्री ने कहा कि निगम अधिकारी कई दौर की वार्ता करने के बाद भी कर्मचारियों की समस्याओं का समाधान नहीं करते है इसलिए कर्मचारियों का निगम प्रशासन से विश्वास उठ चुका है। इसलिए यह आन्दोलन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि बेरोजगार हुए बाल्मीकि परिवारों को नौकरी मिलने, गैर कानूनी ढंग से निकाले गए कर्मचारियों को वापिस लेने, 688 कर्मचारियों को निगम रोल पर रखने, सीवर सफाई कर्मचारियों की रिक्त पदों पर भर्ती करने, ड्राईवरों को डीसी रेट देने, समान काम-समान वेतन देने, सभी प्रकार के एरियरों के भुगतान करने सहित अन्य मांगों का समाधान नहीं होगा तब तक यह आन्दोलन जारी रखा जाएगा। प्रदर्शन में सफाई कर्मचारी यूनियन के प्रधान बलवीर सिंह बालगुहेर,  जिला वरिष्ठ उपप्रधान गुरचरण खांडिय़ा, ड्राईवर यूनियन के प्रधान परसराम अधाना, वेद भडाना, रामकिशोर त्यागी, सुभाष फेंटमार, रंजीत शुक्ला, श्रीनन्द ढकोलिया, रघुवीर चौटाला, देवेन्द्र मंझावली, बल्लू चिंडालिया, प्रेमपाल, राजू मंढोतिया, कृष्ण चिण्डालिया, महेन्द्र कुडिय़ा, धर्म सिंह मुल्ला, राजबीर चिण्डालिया, विरेन्द्र भंडारी, महिला नेता माया, शंकुतला, कमलेश, ममता, बृजवती सहित सैकड़ों कर्मचारी शामिल थे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: