Wednesday, December 27, 2017

समरस गंगा महोत्सव में रहेंगे 3000 पूर्व सैनिक, कलश यात्रा में 2100 महिलाएं एवं 1100 स्वयंसेवक



पलवल(abtaknews.com) राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा आयोजित किए जाने वाले समरस गंगा महोत्सव में सुव्यवस्था एवं अनुशासन का एक नया रूप देखने को मिलेगा। यह शब्द राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रान्त कारवाह देव प्रसाद ने संघ कार्यालय केशव भवन पर आयोजित बैठक में कहें। इस महोत्सव में मुख्य रूप से 3000 पूर्व सैनिक, कलश यात्रा में 2100 महिलाएं एवं 1100 स्वयंसेवक पूर्ण गणवेश में भाग लेंगें। बैठक प्रांत के अधिकारियों के द्वारा समरस गंगा महोत्सव के लिए की जाने वाली गतिविधियों को ध्यान में रखने व उनके लिए निमित व्यक्तियों की जिम्मेदारी तय करने के लिए बुलाई गई। इस अवसर पर प्रंात कारवाह के साथ, विभाग कारवाह राकेश त्यागी व जिला सहसंघ चालक  राजेन्द्र प्रसाद मौजूद रहे।
 बैठक में प्रांत से आए हुए अधिकारियों ने इस व्यवस्था में जुटे 69 व्यवस्था प्रमुख कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर यह सुनिश्चित किया कि वह अपने सहयोगियों के साथ तालमेल रखते हुए अपने कर्तव्य का पूर्णता से निर्वाह करंे।  69 प्रमुख कार्यकर्ताओं के साथ चार- चार अन्य स्वयंसेवक अपनी भागीदारी निभाने का कार्य करेगें। इस कार्यक्रम में अलग-अलग आयामों को देखते सभी व्यवस्था प्रमुखों को पार्किंग से लेकर स्वागत कक्ष तक की जानकारी और तैयार रूपरेखा पर मुस्तैद रहने के लिए जिम्मेदारियां दी गई हैं।
बैठक के दौरान समरस गंगा महोत्सव में भागीदारी के लिए सामाजिक संस्थाओं के द्वारा प्रदर्शनियों का आयोजन, विद्यार्थियों के द्वारा पर्यावरण सहित संस्कृति व अन्य विषयों पर मॉडल, पांडाल की सुव्यवस्थित बैठक व्यवस्था, पत्रकारों के लिए प्रैस दीर्घा व इलैक्टोनिक मीडिया द्वारा बाईट लेने के लिए विशेष कक्ष का प्रबंध, स्वंयसेवकों द्वारा व्यायाम, खिलाडियों का सम्मान, महिलाओं की बैठक व्यवस्था के लिए राष्ट्रीय सेविका समिति, 2100 महिलाएं कलश यात्रा के साथ, 1100 स्वयंसेवक पूर्ण गणवेश में, पूर्व सैनिकों के लिए बैठनें की सुव्यवस्था, पांच चरणों में वाहन पार्किगं, ढोंल नगाडों के साथ शहीद कलश लेकर आने वाले परिवार, दोपहिया, चौपहिया व बड़े वाहनों के लिए अलग-अलग स्थानों पर पार्किग की व्यवस्था आदि को देखने के लिए 350 स्वयंसेवकों को जिम्मेदारियां दी गई हैं।
बैठक में सभी खण्डों से शहीद के गांवों से आने वाले कलश के लिए भारत माता का मंदिर व शहीद परिवारों के लिए विशेष व्यवस्था पर भी चर्चा हुई और पूर्व सैनिक के लिए पांडाल में विशेष कक्ष, 32 मंदिरों से आने वाली कलश यात्राओं के लिए स्वयंसेवकों की भूमिका, दादा कान्हा, संत रविदास सहित पांच झांकियां के लिए सुव्यवस्थित रचना पर चर्चा की गई।
इस अवसर पर जिला कारवाह वेद प्रकाश, प्रचार व्यवस्था प्रमुख विष्णु चौहान, मुरारी लाल, अजीत, होडल नगर संघ चालक गोपाल सिंह, नगर कारवाह राकेश कुमार, महेन्द्र सिंह, खंड कारवाह मोहन राम, जिला बौद्धिक प्रमुख जगवत सिंह, हथीन खंड कारवाह जयंत कुमार, सतीश कुमार, ग्राम विकाश प्रमुख शिवकुमार, अलावलपुर से खंड कारवाह हुकम सिंह, उदयभान, कर्नल समरसिंह, सूवेदार मेजर महावीर सिंह, कैप्टन वेदपाल, हसनपुर खंड शारीरिक प्रमुख मनोज कुमार, लाखन सिंह, कपूर चंद, प्रवीन ग्रोवर, पांडाल व्यवस्था प्रमुख अतुल मंगला,  प्रवीन गर्ग, विजेन्द्र मंगला, शैलेन्द्र, कर्नल दयाराम, कैप्टन बी.एस.पोसवाल, सुरेन्द्र कुमार, राजकुमार, प्रेमसिंह,पृथ्वीराज, सतवीर सिंह, के.डी.गौतम, के.पी. सिंह, सतीश कौशिक, दुर्गा, नगर कारवाह भारत, जितेन्द्र कुमार, भोजन व्यवस्था प्रमुख नीरज कुमार, अर्जुन शास्त्री, शान्तनु,  शक्ति वर्मा, सतीश, सुनील कुमार, रामअवतार, नरेश कुमार कुमार सहित सभी सरमस गंगा व्यवस्था प्रमुख मौजूद थे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: