Sunday, December 10, 2017

2031 मास्टर प्लान को लेकर हुई पन्हेड़ा खुर्द महापंचायत में किसानों ने निकाली भड़ास

2031 Farmers' heartbreak in the Panhera Khurd mahapanchayat on Master Plan

बल्लबगढ़ (abtaknews.com) वर्ष 2031 के मास्टर प्लान को लेकर अधिग्रहित की जाने वाली 55 गांवों की जमीन के विरोध में जिले के 55 गांवों के प्रतिनिधियों ने एक महापंचायत का आयोजन बल्लभगढ़ के पनहेड़ा खुर्द गांव में किया। जिसमें किसानो ने आगे की रणनीति तय की तथा यह भी कहा कि हम किसी भी हालत में अपनी भूमि को अब अधिग्रहित नहीं होने देंगे।

बल्लभगढ़ के पन्हेड़ा खुर्द गांव में  55 गांव की पंचायत के प्रतिनिधियों ने महापंचायत का आयोजन किया। जिसमें 2031 के मास्टर प्लान को लेकर फरीदाबाद और पलवल जिले के 55 गांवों की भूमि का अधिग्रहण किया जाना है जिसके विरोध में यह पंचायत हो रही है। किसान नेता राजेश तेवतिया व किशन सिंह चहल की ने बताया कि हरियाणा का किसान अब यह जान चुका है कि सरकार किस तरह से जमीन अधिग्रहण करके उनकी रोजी-रोटी को छीनने का काम कर रही है। यह पंचायत इसलिए रखी गई है ताकि महापंचायत में यह निर्णय हो सके की भूमि का अधिग्रहण किसान की शर्तों के अनुसार होना चाहिए। किसानों की मानें तो भूमि का अधिग्रहण करते समय यह तय हो कि किसानों को एकमुश्त जमीन का मुआवजा मिले तथा एक प्लॉट के अलावा परिवार के एक सदस्य को नौकरी भी मिलनी चाहिए। किसानों की माने तो 2013 के लैंड एजुकेशन एक्ट के सभी नियमों को सरकार पूरा करें ताकि किसानो को इसका भरपूर फायदा मिल सके। किसान नेताओं की मानें तो पूरे हरियाणा में किसानों के साथ सरकार भेदभाव की नीति अपना रही है। भूमि अधिग्रहण करते समय किसानों से दूसरे वादे किए जाते हैं और अधिग्रहण करने के बाद उन वादों से सरकार मुकर जाती है।



loading...
SHARE THIS

0 comments: