Tuesday, November 28, 2017

शहरवासी अपनाएं स्वदेशी, सरकार अपनाएगी विदेशी, भारत में सफाई करेगी चीन की कंपनी


 Chinese citizens will adopt Swadeshi, government to oversee foreigners, Faridabad-Gurgaam will clean up China's company
फरीदाबाद (abtaknews.com) फरीदाबाद और गुरूग्राम की सफाई अब चीन की कंपनी ईको ग्रीन करेगी जिसको हरियाणा सरकार ने 14 अगस्त 2017 को ठेका दिया था, जिसकी शुरूआत फरीदाबाद से ईको ग्रीन की पांच गाडियों को मेयर सुमन बाला, अतिरिक्त आयुक्त पार्थ गुप्ता ने हरी झंडी दिखाकर कर दी है। जो कि 1 दिसबंर तक पूरे शहर में लोगों को जागरूक करेंगी कि गीला और सूखा कूडा गाडी में रखे हुए दोनों अलग अलग डब्बों में डालने हैं और उसके बाद 2 दिसबंर से ये गाडियां कूडा उठाना शुरू कर देंगी। जिस कूडे को बंधबाडी में ट्रास्प्लांट करके उससे खाद्य और बिजली बनाई जायेगी। 

फरीदाबाद निगम मुख्यालय में स्वच्छ फरीदाबाद-स्वथ्य फरीदाबाद के अंतर्गत नगर निगम की महापौर सुमन बाला, और अतिरिक्त आयुक्त पार्थ गुप्ता ने नगर निगम के वरिष्ठ सफाई महिला कर्मचारी दुलारी, से इको ग्रीन एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड द्वारा घर-घर से गीला व सूखा कूड़ा उठाने वाली 5 गाडिय़ों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह गाडियां नगर निगम के सभी वार्डों में जाकर लोगों को अपना गीला व सूखा कूड़ा अलग-अलग रख कर इको ग्रीन एनर्जी वेस्ट की गाडिय़ों में डालने के बारे में लोगों को जागरूक करेगी। 

निगम की महापौर सुमन बाला ने शहरवासियों से अपील की कि फलों और सब्जियां, अंडे के छिलके, चायपत्ती, बचा हुआ खाना, चिकन, मछली की हडिडयां आदि गीले कचरे की श्रेणी में आते है और उक्त कचरे के लिए हरे डस्टबिनों का प्रयोग करें तथा इसी प्रकार सूखे कचरे की श्रेणी में प्लास्टिक, लकडिय़ां, कांच, रबड., तारमाकोल, गत्ता, पेपपर, लोहा, धातु आदि आते है और इनके लिए नीले डस्टबिनों का प्रयोग करना चाहिए। साथ ही उन्होंने बताया कि मार्च तक पूरा फरीदाबद कूडा मुक्त हो जायेगा और एक नया स्मार्ट सिटी बनकर निकलेगा। वहीं उन्होंने फरीदाबाद बासियों से अपील की कि ये शहर हम सब का है इसलिये इसे स्वच्छ बनाने में प्रशासन की मदद करें।


ईको ग्रीन कंपनी के अधिकारी संजीव अग्रवाल ने अबतक न्यूज़ पोर्टल टीम को बताया कि उनके पास फरीदाबाद और गुरूग्राम को साफ करने का जिम्मा है, जिसकी शुरूआत उन्होंने 5 गाडियों को जागरूकता के लिये शहर में उतार दिया है जो कि 1 दिसबंर तक जागरूक करेंगी और उसके बाद 2 दिसबंर से कूडा उठाना शुरू करेंगी। कूडा उठाने के बदले में हरियाणा सरकार ने कुछ पैसा भी फिक्स किया है जो कि रूरल क्षेत्र में 5 रूपये प्रतिदिन होगा तो सैक्टर क्षेत्र में 30 से 50 रूपये प्रतिदिन होगा। इस प्रकार उनका लक्ष्य मार्च तक दोनों शहरों को प्रदूषण रहित बनाना है।


loading...
SHARE THIS

0 comments: