Tuesday, November 28, 2017

दवाई के बिना हर बिमारी का इलाज साइको न्यूरोबिक्स द्वारा संभव ; डॉ. बीके चन्द्रशेखर


 Treatment of every disease without medication possible by psycho neurobics; Dr. B.K. Chandrasekhar

फरीदाबाद, 28 नवम्बर(abtaknews.com ) शिरडी साई बाबा टेम्पल सोसाइटी, साईधाम फरीदाबाद  में मधुमेह प्रबंधन कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें गिनीज वल्र्ड रिकार्ड धारक ख्यातिप्राप्त अंर्तराष्ट्रीय स्मरण शक्ति प्रशिक्षक और आरोग्यसाधक डॉ. बीके चन्द्रशेखर द्वारा उपस्थित जन समूह के सामने दवाई के बिना हर बिमारी का इलाज साइको न्यूरोबिक्स द्वारा किस प्रकार से किया जा सकता है इसके बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर उपस्थित महानुभावों की निशुल्क शुगर की जांच की गई तथा उसके बाद लोगों को साइको न्यूरोबिक्स के बारे में जानकारी दी गई तदउपरान्त डॉ.चन्द्रशेखर के सान्ध्यि में सिगफा साईधाम हेल्थ सेन्टर में साइको न्यूरोबिक्स का प्रयोग करवाया गया। इसके प्रश्चात दोबारा से शुगर की जांच की गई और उपस्थित लोगों ने अपने आप साइको न्यूरोबिक्स का अपने शुगर लेवल में कमी होने का अनुभव किया तथा किस प्रकार शरीर को तनावमुक्त किया जा सकता है। कुछ लोगों ने अपने अनुभव सांझा किये और सिगफा साईधाम हेल्थ सेन्टर में साइको न्यूरोबिक्स अपनाकर अपनी शुगर को नियंत्रण किया और इसके अलावा काफी लोगों ने ब्लड प्रैसर, जोड़ों के दर्द इत्यादि में बहुत आराम पाया। 
योग निद्रा द्वारा चमत्कारी उपचार व अपने जीवन में उसका लाभ 
इसके उपरान्त सायं गुरुदेव श्री अमृतजी जिन्होंने अपना विशाल योगा और स्वास्थ्य केन्द्र उत्तरी अमेरिका में स्थापित किया हुआ है उपस्थित समाज के बुद्धिजीवियों के सम्मुख योग निद्रा के विषय में अपने अनुभव प्रस्तुत किये। गुरुजी 25 वर्षों से भी अधिक समय से विशाल योगा और स्वास्थ्य केन्द्र उत्तरी अमेरिका में केन्द्र चला रहे हैं और विभिन्न देशों में अपनी प्रतिभा को लोगों के बीच में बडें ही सुन्दर साधारण तरीके से योग निद्रा के महत्व को समझा रहे हैं। गुरुजी ने अपने अनुभव सांझा किये और अपने कार्यक्रम के अन्त में लोगों को योग के माध्यम से योग निद्रा का अनुभव करवाया। सभी उपस्थित सज्जनों ने इस क्रिया द्वारा बड़ी सुग्मता से योग निद्रा की विधि का अनुभव किया। इस विधि को अपनाने से मनुष्य का तीसरा नेत्र खुलता है और वह बहारी दुनिया से अपने आपको हटकर परम पिता परमेश्वर से अपना नाता जोड़ता है। इस कार्यक्रम के दोरान डॉ.चन्द्रशेखर ने गुरुजी के अग्रेजी व्यखान का हिन्दी में अनुवाद किया।  
इस अवसर पर जानेमाने बुद्धिजीवी सज्जन जिन्होंने ने डॉ.चन्द्रशेखर जी नेतृत्व में अपनी बिमारियों से निजात पाया ने अपने अनुभव सांझा किये और बताया कि किस प्रकार से योगा और साइको न्यूरोबिक्स विधि द्वारा अपने ब्लड प्रैसर, शुगर व जोड़ों के दर्द इत्यादि में बहुत आराम पाया। केनरा बैंक में वरिष्ठ प्रबन्धक ने अपना अनुभव सांझा करते हुए उपस्थित सज्जनों को बताया कि उन्होंने साइको न्यूरोबिक्स विधि से अपने जोड़ों के दर्द से पूरी तरह से आराम पाया उन्होंने अपना सुगध अनुभव बड़े ही गर्व के साथ सांझा कि और बताया कि एक धार्मिक कार्यक्रम में प्रभु के सामने नृत्य कर पाई। इसके अलावा कुछ और लोगों ने अपने पुराने ब्लड प्रैसर, शुगर में बहुत आराम पाया और कई लोगों की दवाईयां बन्द हो गई। इस कार्यशाला के आयोजन के लिए लागों ने साईधाम व इसके संस्थापक डॉ. मोतीलाल गुप्ता का आभार प्रकट किया और कहा कि भविष्य में भी इस प्रकार के आयोजन होते रहे जिससे अधिक से अधिक जनमानस इससे लाभाविंत हो सके।

loading...
SHARE THIS

0 comments: