Wednesday, November 8, 2017

सराय ख्वाजा सरकारी स्कूल में कानूनी शिक्षा प्रकोष्ठ द्वारा शिक्षा अधिकार जागरुकता कार्यक्रम


फरीदाबाद(abtaknews.com)जिला विधिक सेवा प्राधिकरण फरीदाबाद के सौजन्य से आज राजकीय आदर्श  वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, सराय ख्वाजा की जूनियर रैडक्रास तथा सैंट जान एंबुलैंस बिगे्रड नें विद्यालय में प्राचार्या श्रीमति नीलम कौशिक की अघ्यक्षता में कानूनी शिक्षा प्रकोष्ठ जागरुकता प्रोग्राम का आयोजन किया। प्रोग्राम का संयोजन करते हुए अंग्रेजी प्रवक्ता व सैंट जान एंबुलैंस बिगे्रड अघिकारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा ने छात्रों को बताया कि कानूनी शिक्षा का ज्ञान हम सब के लिए कितना आवश्यक है। संकुल संसाधन केन्द्र स्तर के छात्र व छात्राओं को शिक्षा का अधिकार, यौन हिंसा, दहेज, महिला उत्पीडन, सडक सुरक्षा तथा आत्म सुरक्षा आदि के बारे मे कानूनी शिक्षा प्रकोष्ठ से सहायता लेने के लिए प्रेरित किया गया।

इस अवसर पर विद्यालय के कक्षा नौवीं से बारहवीं के बच्चों को विद्यालय मे कानूनी शिक्षा प्रकोष्ठ जागरुकता प्रोग्राम मंे लाभन्वित किया। छात्रों को शिक्षा का अधिकार सहित अन्य मुददों पर प्रदत्त अधिकारों से अवगत करवाया गया। प्राचार्या श्रीमति नीलम कौशिक ने प्रतिभाग कर रहे छात्राओं व छात्रों से किसी भी विषय पर प्रश्न कर शंकाओं का निवारण करने के लिए कहा। एक छात्रा ने पूछा कि यदि किसी छात्रा के माता पिता उसे उस की इच्छा होते हुए भी उस की पढाई में बाघा डालते है या उस की पढाई रुकवाना चाहते है तो वह क्या करें, अन्य छात्रा ने पूछा कि माता पिता उस की नाबालिग बहन की शादी उस की सहमति के बिना करवाना चाहते है, समझ नही आता क्या करें। उन्होनंे कहा कि ऐसी स्थितियों में उस छात्रा या बच्ची के माता पिता की काउंसलिंग कर उन्हें समझाया जाएगा ताकि उक्त छात्रा की पढाई में कोई बाधा न आए। विद्यालय की प्राचार्या श्रीमति नीलम कौशिक, कानूनी शिक्षा प्रकोष्ठ प्रभारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा, वरिष्ठ प्रवक्ता रेणु शर्मा, शारदा, बिजेन्द्र सिंह, वेदवती, चन्दन बिन्दु और ब्रहम्देव यादव ने जिला लीगल सर्विस अथारिटि में उपलब्ध निःशुल्क कानूनी सुविघा से अवगत कराते हुए बताया कि कानूनी शिक्षा का ज्ञान हम सब के लिए बहुत ही जरुरी है, ताकि हम अपने डयूटी करने के साथ हम अपने अधिकारों को भी विस्तार से जान सकें। बच्चों ने इस मौके पर सुन्दर पेंटिंग और स्लोगन के माघ्यम से ‘‘शिक्षा के अधिकार‘‘ की आवश्यकता को बखूबी रेखांकित किया।


loading...
SHARE THIS

0 comments: