Wednesday, November 8, 2017

फरीदाबाद की मेयर सुमन बाला के जाती विवाद मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट



फरीदाबाद 7 नवंबर(abtaknews.com ) फरीदाबाद में मेयर  सुमन बाला की जाति को लेकर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है बेशक जिला अदालत ने सुमन बाला की जाति और जाति प्रमाण पत्र को सही माना था लेकिन बावजूद इसके अब यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है और सुप्रीम कोर्ट में नोटिस देकर फरीदाबाद के डिप्टी कमिश्नर हरियाणा के इलेक्शन कमिश्नर और मेयर सुमन बाला को तलब किया है।  इस मामले में याचिकाकर्ता के वकील ने फरीदाबाद में प्रेस कांफ्रेंस में बोलते हुए कहा कि कुछ मामले संदेह पैदा करते हैं मेयर सुमन बाला की जाति प्रमाण पत्र पर उन्होंने कहा की मेयर ने अपने हलफनामे में बताया कि उन्होंने अपनी कॉलेज की शिक्षा दिल्ली यूनिवर्सिटी से की लेकिन उस दौरान उन्होंने अपनी जाति संबंधी कोई साक्ष्य नहीं दिखाया इसी तरह जब उन्होंने पार्षद के लिए अपना नामांकन भरा तभी उन्होंने 39 साल की उम्र में पहली बार अपना जाति प्रमाण पत्र बनवाया। वकील का कहना है कि अगर  कॉलेज में दाखिला लेने के समय उन्होंने अपनी जाति जनरल बताई तो फिर पार्षद के इलेक्शन के समय उन्होंने अपने आप को रिजर्व कैटेगरी से क्यों दिखाया और अगर कॉलेज में उन्होंने खुद को रिजल्ट केटेगरी से बताया था तब उन्होंने जाति प्रमाण पत्र क्यों नहीं बनवाया वकील का कहना है कि यह सब बातें संदेह पैदा करती हैं लिहाजा सच्चाई सबके सामने आए इसलिए उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: