Wednesday, October 18, 2017

फरीदाबाद शहर की निगरानी करने वाला DC आफिस ही है भ्रष्टाचार का गढ़


फरीदाबाद (abtaknews.com) 18 अक्टूबर,2017 ; सारे फरीदाबाद शहर की निगरानी करने वाला DC आफिस ही है भ्रष्टाचार का गढ़। क्या आप सोच भी सकते हैं कि कोई सरकारी अधिकारी अपनी प्रमोशन ना चाहता हो। प्रमोशन होने पर अधिकारी की तनख्वाह और प्रतिष्ठा दोनों बढ़ती हैं। फरीदाबाद में कुछ क्लर्क ऐसे हैं जो प्रमोशन नहीं लेते। कारण यह है कलर रहते हुए जो यह कमाई कर सकते हैं और प्रमोशन के बाद head clerk बनने पर इन्हें सिर्फ कागजी कार्रवाई मिलती है। जबकि क्लर्क रहते हुए यह तहसील ,आरसी , टोकन,  रजिस्ट्री और लाइसेंस जैसे कार्यों में लिप्त रहते हैं। उपरोक्त बातें आरटीआई कार्यकर्ता वरुण श्योकंद ने मीडिया को जारी प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से व्यक्त की है। 

आरटीआई कार्यकर्ता वरुण श्योकंद का कहना है कि 10 सालों से यह बैठे हैं एक ही सीट पर, जिनकी प्रति महीने लाखों की काली कमाई है।  यह सब ब्यौरा मुझे आरटीआई से मिला। उन्होंने झूठा जवाब भी दिया कि कोई भी अधिकारी यहां सेवानिवृत्त होने के बाद कार्यरत नहीं है। जबकि यह सरासर गलत है। प्रेम डीसी साहब का PA बना हुआ है 2 साल पहले सेवानिवृत्त होने के बाद भी।  डीसी फरीदाबाद पर भी लोकायुक्त ने मनरेगा में 25 करोड़ के घोटाले के आरोप सिद्ध किए हैं। अब आप क्या उम्मीद करते हैं फरीदाबाद को कौन भ्रष्टाचार मुक्त करेगा और कौन व्यवस्था सुधारेगा। भाजपा हो या कांग्रेस सबको कमाऊ पूत अच्छे लगते हैं, यही वजह है की छटे हुए अधिकारी फरीदाबाद आते हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का भ्रष्टाचार विरोधी चेहरा भी सिर्फ एक मुखोटा है।   

loading...
SHARE THIS

0 comments: