Thursday, October 26, 2017

सरकार ने अधिगृहित जमीने वापिस करने की मंजूरी राष्ट्रपति के पास भेजी,जमीन वापिस होगी


फरीदाबाद (abtaknews.com)नहरपार ग्रेटर फरीदाबाद के दो सैक्टर 75 व 80 के पांच गांव बड़ौली, प्रहलादपुर, सीही, फज्जूपुर, मिर्जापुर कुल लगभग 650 एकड भूमि का अधिग्रहण 24$04$2009 को कुल 16 लाख रूपये प्रति एकड के हिसाब से किया गया था। इस सन्दर्भ में किसान संघर्ष समिति ग्रेटर फरीदाबाद के अध्यक्ष शिवदत्त वशिष्ठ, एडवोकेट के नेतृत्व में किसानों एक बैठक गांव बडौली में आयोजित की गई। जिससे काफी किसानों ने हिस्सा लिया आज नहरपार ग्रेटर फरीदाबाद के किसानों की एक बैठक मुख्यमन्त्री के उस ब्यान को लेकर गांव बड़ौली में बुलाई गई। विधान सभा के इस शीत कालीन शत् में मुख्यमन्त्री ने सदन को बताया है कि हरियाणा सरकार ने अधिगृहित जमीन वापिस करने के प्रावधान को कानून बनाकर मंजूरी के लिए राष्ट्रपति को भेज दिया है मंजूरी के बाद किसानों को अधिगृहित जमीन वापिस हो सकेंगी, वशिष्ठ ने मांग की है कि नहरपार के किसानों की जमीन को अधिगृहित हुए 9 वर्ष बीत गये है। आज तक इस जमीन के मुद्दे को सुलझाया नहीं गया है। नहरपार के किसानों ने आज तक अभी तक अधिगृहित जमीन का मुआवजा नहीं उठाया है और ना ही अपनी जमीन पर सरकार को कब्जा दिया है। किसान मांग करते है कि उन्हें य बताया जाये कि जो जमीन अधिगृहित के बाद छोडी जायेगी, उसका लाभ     नहरपार के किसानों को मिलेगा या नहीं। अपनी जमीन को बचाने के लिए किसानों को संघर्ष करते करते लम्बा अरसा बीत गया है इसलिए किसान मांग करते है, जल्दी से जल्दी नहरपार के किसानों की इस अधिगृहित जमीन का हल निकाला जाये। बैठक में मास्टर जयनारायण वशिष्ठ, निरंजन चन्दीला, ब्रहमदत्त वशिष्ठ, मनोज यादव, श्याम, जय प्रकाश भाटी, किशन मैम्बर, अजीत नम्बर, सुनील, ओमप्रकाश, राम किशन, इन्द्राज, पवन, विजय, प्रदीप वशिष्ठ, सुरेन्द्र, चन्दर, अन्नू वशिष्ठ, नरेन्द्र आदि किसान मौजूद थे।




loading...
SHARE THIS

0 comments: