Thursday, October 5, 2017

एनसीआर का पहला निशुल्क ऑक्सीजन चैम्बर गुरुग्राम में बना, दीपावली में उपहार करें पौंधे ; विपुल गोयल



एनसीआर(abtaknews.com) 05 अक्टूबर,2017: शहर में सबसे स्वच्छ और स्वास्थ्यप्रद वातावरण देने के उद्देश्य से नर्चरिंग ग्रीन द्वारा हुडा सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन के पास एन सी आर का पहला ऑक्सीजन चैम्बर ओ २ बनाया गया है. इस चैम्बर का उद्धघाटन हरियाणा के कैबिनेट मंत्री  विपुल गोयल ने किया। समारोह में डीएमआरसी के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री मंगू सिंह, डीएमआरसी के डायरेक्टर  शरत शर्मा, गुरुग्राम डिप्टी कमिश्नर विनय प्रताप सिंह भी उपस्थित रहे. इसके साथ साथ गुरुग्राम वासियों को मुफ्त में पौंधे भी बनते गए और पौधरोपण भी किया गया. स्कूली बच्चों ने भी इस आयोजन में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई. नर्चरिंग ग्रीन के प्रबंध निदेशक अन्नू ग्रोवर ने सभी का स्वागत और आभार प्रकट किया. यह ओ २ चैम्बर शुरवाती दौर में निशुल्क होगा.

इसके साथ साथ एक अनोखे गार्डन स्टोर का भी अनावरण किया गया जिसमें अनेक प्रकार के आउटडोर फर्नीचर, फ्लोरिंग & फेंसिंग, गार्डनिंग टूल्स , प्लांटर्स , अक्वाटिक्स , फॉउन्टेंस  & सकल्पचर्स  और गार्डनिंग  एक्सेसरीज उपलब्ध हैं।  अन्नू ग्रोवर मैनेजिंग डायरेक्टर नर्चरिंग ग्रीन ने कहा , "हमारा उद्देश्य क्लीन और ग्रीन ड्राइव के साथ, लोगों को पर्यावरण की सुरक्षा के उपायों के बारे में शिक्षित करना है ताकि सब हरित प्रकृति - हर स्वस्थ और समृद्ध समाज की अंतिम आवश्यकता, के लाभों को साझा करने के लिए प्रेरित करने के लिए प्रतिबद्ध हों । हम मानते हैं कि और एक सकारात्मक मानसिकता के साथ सही दिशा में सभी लोगों के कई छोटे प्रयास कुछ लोगों के गैर-एकीकृत विशाल कदमों की तुलना में एक वांछनीय परिवर्तन लाने में अधिक प्रभावी होगा।"

श्री अन्नू ग्रोवर ने लोगों से अपील करते हुए कहा की इस दीपावली व नव वर्ष में अपने परिवार, रिश्तेदार, मित्रों को पौंधे उपहार में दें। श्री विपुल गोयल ने अपने सम्बोधन में कहा की मैं इस आयोजन के लिए अन्नू ग्रोवर जी को बधाई देता हूँ  और सभी गुरुग्राम वासियों से अनुरोध करता हूँ की साल  में  ३ पेड़ हर व्यक्ति लगाए ताकि हमारा पर्यावरण सुरक्षित हो सके. श्री मंगू सिंह ने कहा की आज हम आधुनिक टेक्नोलॉजी में इतना खो चुके हैं की अपने वातावरण को  बचाने के  लिए प्रयास नहीं उठाते. हम सबको यह बदलना होगा।

loading...
SHARE THIS

0 comments: