Tuesday, October 3, 2017

बल्लभगढ में आयोजित खुले दरबार में पार्षद दीपक चौधरी ने सुनी शिकायत किया समाधान


फरीदाबाद 03 अक्तूबर,2017 (abtaknews.com )नगर निगम बल्लभगढ में पार्षद दीपक चौधरी के नेतृत्व में खुले दरबार का आयोजन किया गया। यह खुला दरबार वैसे तो प्रत्येक महीने के पहले सोमवार व तीसरे सोमवार को आयोजित किया जाता है पंरतु 2 अक्तूबर का अवकाश होने के कारण इस खुले दरबार का आयोजन दीपक चौेधरी  द्वारा मंगलवार 3 अक्तूबर को किया गया।

इस खुले दरबार में दीपक चौधरी ने बल्लभगढ के लोगों की समस्याओं को सुना जिसमें मुख्यत: बस अड्डे मार्किट के दुकानदारो ने  मार्किट में स्थित हलवाईयो द्वारा  गंदगी सीवर जाम हो जाता है  जिससे सीवर का पानी सडको व दुकानो के आसपास जमा होने लगता है जिससे बदबू एवं गंदगी बढ़ जाती है और उससे उठने वाली बदबू एवं गंदगी के कारण दुकानदारों का दुकानो में बैठना एवं आना जाने वाले लोगों व ग्राहकों का काफी परेशानी का सामना करना पडता है इस समस्या को लेकर कई बारी निगम प्रशासन को भी लिखित शिकायत दी जा चुकी है परंतु कोई हल नहीं हुआ इसके लेकर भी दुकानदारो ने पार्षद दीपक चौधरी को शिकायत दी, इसके अलावा आदर्श नगर से आये हुए लोगो ंने हाऊस टैक्स गलत आने की शिकायत भी दीपक चौधरी के समक्ष रखी। इसके अलावा ऋषि नगर से आये हुए लोगों ने बढे हुए रैंप, स्ट्रीट लाईट की समस्या से अवगत कराया व  पूर्वी चावला कालोनी के लोगों ने गायत्री मंदिर रोड को बनाने की मांग भी पार्षद दीपक चौधरी के  समक्ष रखी।

खुले दरबार में आयी हुई समस्याओं को सुनकर पार्षद दीपक चौधरी ने उपस्थित अधिकारियों को इन समस्याओं के समाधान जल्द से जल्द किया जाये के आदेश दिये एवं क्षेत्रवासियों को जल्द ही इन समस्याओं केा दूर करने का आश्वासन दिया। दीपक चौधरी ने कहा कि यह खुला दरबार आप लोगों के लिए ही आयेाजित किया जा रहा है ताकि क्षेत्र की समस्याओं को तुंरत प्रभाव से दूर किया जाये। उन्होंने लोगों से अपील की कि वह अधिक से अधिक संख्या में इस खुले दरबार में आये और अपनी समस्याएं बताये ताकि उन समस्याओं को उपस्थित अधिकारियों तक पहुँचाया  जाये और उन्हे जल्द से जल्द हल करवाया जा सके। इस खुले दरबार में मुख्य रूप से गैंदालाल, हैरम कपासिया, प्रेम खट्टर, राधे श्याम कुकरेजा, दीपक गुप्ता, जयभगवान पंडित, देव धारीवाल, महावीर सिंह सहित नगर निगम के  अधिकारियों ने हिस्सा लिया।


loading...
SHARE THIS

0 comments: