Saturday, October 21, 2017

पत्रकार बिजेंद्र शर्मा पर हमला करने वाले 8 आरोपी गए 14 दिन के लिए जेल


फरीदाबाद(abtaknews.com ) 21 अक्टूबर,2017 ;  पटाखे जलाने से मना करने पर घर में घुसकर पत्रकार बिजेंद्र शर्मा पर जानलेवा हमला करने वाले आठ आरोपियों को आज जिला सत्र न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। इस मामले मेें पुलिस ने 9 नामजद आरोपियों में से 8 को गिरफ्तार कर लिया था, जबकि एक महिला आरोपी अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। पकड़े गए सभी आरोपियों मनोज, जगबीर, बॉबी, गुल्लू पुत्रान श्यामलाल, श्यामलाल पुत्र नकसेद मौर्या निवासी नंगला एंक्लेव पार्ट-2 तथा कैलाश पुत्र महंगी राम निवासी नंगला पार्ट-2, रामप्रसाद पुत्र कैलाश व विपिन पुत्र कैलाश को आज थाना सारन पुलिस द्वारा माननीय न्यायाधीश प्रदीप कुमार की अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। उधर घायल बिजेंद्र शर्मा को देखने के लिए आज केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर बादशाह खान अस्पताल पहुंचे और कुशलक्षेम पूछा। उन्होंने इस हमले की कटु शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि इस मामले के आरोपियों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा और इसके लिए कल ही उन्होंने पुलिस कमिश्रर को सख्ती से आदेश दे दिए थे, इसी का परिणाम है कि पुलिस ने कल तेजी से कार्यवाही करते हुए सभी आठ लोगों को तुरंत गिरफ्तार कर लिया था। श्री गुर्जर ने फरीदाबाद में अपराधियों के लिए कोई स्थान नहीं है और जब-जब भी कहीं अपराध हुआ है, तो पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए ठोस कार्यवाही की है। उन्होंने इस मौके पर अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह पत्रकार के इलाज में किसी भी प्रकार की कोताही न बरती जाए। इसके अलावा आज एनआईटी क्षेत्र से विधानसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी रहे भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष यशवीर डागर भी अपने समर्थकों के साथ बीके अस्पताल पहुंचे तथा घायल पत्रकार का कुशलक्षेम पूछा और पीडि़त पत्रकार के परिजनों को सांत्वना देते हुए कहा कि आरोपियों को किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा, चाहे वह कितने ही पावरफुल क्यों न हो। इसके अलावा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता लखन कुमार सिंगला भी पीडि़त पत्रकार का हालचाल पूछने के लिए अस्पताल पहुंचे और इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए इसे पुलिस प्रशासन की नाकामी करार दिया। उन्होंने कहा कि यह हमला लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला है, लेकिन हैरानी की बात है कि पुलिस ने मामूली धाराओं में केस दर्ज कर इतिश्री कर ली है, जबकि उसी दिन एक पुलिस वाले पर हमला हुआ तो उस पुलिस वाले को इतनी चोट भी नहीं आई, जितनी पत्रकार बिजेंद्र शर्मा को आई, फिर भी पुलिस वाले पर हमला करने वालों के खिलाफ धारा 307 लगाई है, जबकि बिजेंद्र शर्मा का जहां एक हाथ पूरी तरह से टूट चुका है वहीं तीन पसलियां भी टूटी है इसके अलावा उनके सिर में भी गंभीर चोट है, फिर पुलिस आरोपियों के खिलाफ धारा 307 क्यों नहीं लगा रही। उन्होंने कहा कि अगर आरोपियों के खिलाफ धारा 307 नहीं लगाई गई तो जल्द ही कांग्रेस पार्टी सडक़ पर उतरकर प्रदर्शन करने को मजबूर होंगी। वहीं पृथला के विधायक टेकचंद शर्मा, हरियाणा सरकार की पूर्व मुख्य संसदीय सचिव कुमारी शारदा राठौर, चेयरमैन अजय गौड़, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता विकास चौधरी, कांग्रेस ओबीसी सैल के चेयरमैन राकेश भड़ाना, कांग्रेसी नेता इकराम खान, आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता धर्मबीर भड़ाना, पूर्व पार्षद योगेश ढींगड़ा, समाजसेवी श्याम सुंदर कपूर व संतोष यादव सहित अनेकों राजनेता एवं सामाजिक संगठनों के अलावा पत्रकार संगठनों से जुड़े लोग अस्पताल पहुंचे और उन्होंने पत्रकार पर हमले की कटु शब्दों में निंदा की। उधर हरियाणा पत्रकार संघ के अध्यक्ष के.बी. पंडित ने भी इस हमले की कड़ी निंदा करते हुए आज मुख्यमंत्री मनोहर लाल के मीडिया सलाहकार अमित आर्य व भाजपा के मीडिया कमेटी के अध्यक्ष राजीव जैन से फोन पर वार्ता कर आरोपियों के खिलाफ भादंस की धारा 307 लगवाने की मांग की। उन्होंने फरीदाबाद के पुलिस कमिश्रर डा. हनीफ कुरैशी से भी मांग की कि इस मामले में तत्परता बरतते हुए कड़ा संज्ञान लें। मालूम हो कि दीवाली की रात्रि नंगला एंक्लेव पार्ट-2 में पटाखे चलाने से मना करने पर पत्रकार बिजेंद्र शर्मा व उनकी पत्नी पर कुछ लोगों ने लाठी-डंडों से लैस होकर हमला कर दिया था।


loading...
SHARE THIS

0 comments: