Sunday, September 24, 2017

बीएचयू में छेड़खानी के विरोध में पुलिस का लाठीचार्ज

police-action-against-agitation-of-students-bhu

वाराणसी(abtaknews.com -संदीप पाल)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वाराणसी दौरे दौरान बीएचयू कैंपस में छात्रा के साथ हुई छेड़छाड़ की घटना का विरोध प्रदर्षन वाराणसी जिला प्रषासन के आॅखों की किरकिरी बना गया। जिसके परिणाम स्वरूप अपनी सुरक्षा, छेड़छाड़ रोकने और वीसी से मिलने की मांग को लेकर पिछले दो दिनों से धरने पर बैठे छात्र-छात्राओं को शनिवार आधी रात को लाठी बरसाते हुए खदेड़ दिया। 

वहीं इसके बाद बीएचयू कैम्पस में हालात और बिगड़ गए है। लाठीचार्ज से गुस्साए छात्रों ने न केवल पुलिस पर पत्थरबाजी शुरू कर दी बल्कि कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया। बीएचयू में बेकाबू हालात को देख कैम्पस में पुलिस बल की तैनात कर कैम्पस को छावनी में तब्दील कर दिया गया। छात्रों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस द्वारा हवाई फायरिंग भी की गई। हंगामे को देखते हुए बीएचयू प्रशासन ने 2 अक्टूबर तक यूनिवर्सिटी को बंद रखने का फैसला किया। 

लाठीचार्ज में लगभग एक दर्जन छात्र-छात्राओं के घायल होने की खबर है। जिनको इलाज हेतु बीएचयू के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। घायलों में एक पुलिस का जवान भी शामिल है। नियमों को ताक पर रख प्रदर्शन कर रही छात्राओं पर पुरुष पुलिसकर्मियों ने लाठी प्रहार किया। जबकि महिलाओं के प्रदर्षन व उनको रोकने के लिए महिला पुलिस बल का प्रयोग किया जाता है। प्राप्त जानकारी के अनुसार यह दमनात्मक कार्रवाई बीएचयू प्रॉक्टोरियल बोर्ड के इशारे पर उस समय की गई जब छात्राओं ने विरोध स्वरूप कुलपति के आवास का घेराव किया। गौरतलब है कि गुरुवार को विश्वविद्यालय परिसर में एक छात्रा के साथ दो बाइक सवारों ने छेड़खानी की थी जिसके बाद से ही छात्राओं में इस घटना को लेकर काफी गुस्सा है। आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग के लिए छात्राएं शुक्रवार सुबह 6 बजे से ही बीएचयू के मेन गेट पर तीव्र विरोध प्रदर्शन कर रहीं थी।

loading...
SHARE THIS

0 comments: