Friday, September 15, 2017

डॉ. प्रतिभा चौहान समर्पित शिक्षाविद की उपाधी से हुई सम्मानित

hindi-divas-celebration-at-nehru-college-faridabad

फरीदाबाद, 14 सिंतबर(abtaknews.com) हिंदी दिवस के अवसर पर राजकीय महाविद्यालय फरीदाबाद में आयोजित कार्यक्रम में डॉ. प्रतिभा चौहान को शिक्षा एवं साहित्य के क्षेत्र में अद्धितिय योगदान के लिए समर्पित शिक्षाविद की उपाधी से नवाजा गया है। यह सम्मान उन्हेें साहित्यिक संस्था यूथ ऑफ यूनिवर्ष द्वारा दिया गया है। कार्यक्रम में प्रमुख सहित्यकार, व्यंगकार एवं आलोचक डॉ. शेरजंग बतौर मुख्यअतिथि मौजूद रहे जबकि संचालन एवं संयोजन प्रसिद्ध शिक्षाविद डॉ. प्रतिभा चौहान द्वारा किया गया।  कार्यक्रम में निंबध लेखन, स्लोगन, कविता पाठ व भाषण प्रतियोगिताएं भी आयोजित कि गई। 
कार्यक्रम में डॉ. प्रतिभा चौहान ने हिंदी विषय पर बोलते हुए कहा कि हिंदी को भारतीय संविधान में संवैधानिक रुप से आज ही के दिन वर्ष 1949 में देवनागरी लिपि के साथ भारत की राजभाषा घोषित किया गया। उन्होंने बताया कि राजभाषा प्रचार समिति की संस्तुति पर 14 सितंबर 1953 से संपूर्ण भारत में हिंदी दिवस के रुप में मनाया जाता है। भारत की नई पीढ़ी भले ही अंग्रेजी को तवज्जो दे रही हो लेकिन पूरे विश्व में हिंदी की महता साल दर साल बढ़ रही है। उन्होंने बताया कि हिंदी अब नई प्रौद्योगिकी के रथ पर सवार होकर विश्वव्यापी बन रही है, युवा लेखक बखूबी जानते है कि हिंदी साहित्य का बाजार तेजी से बढ़ रहा है यही कारण है कि गूगल, याहू, माईक्रोसाफट, ओरेकल आदि जैसी कम्पनियां भी व्यापक बाजार देखते हुए हिंदी प्रयोग को बढ़ावा दे रही हैं।
श्रीमती चौहान ने बताया कि आज हिंदी भाषा पूरी दुनिया के माथे पर बिंदी की तरह चमक रही है। उन्होंने कहा कि राजभाषा हिंदी के प्रयोग को बढ़ावा देना हम सब की जिम्मेदारी है। हिंदी बहुत ही समृध एंव सम्पूर्ण भारत को एक सूत्र में पिरोने वाली भाषा है और तो और हिंदी भाषा रंगमंच की आत्मा है कितने ही देशी-विदेशी कलाकारों में हिंदी के प्रति उत्सुकता दिनो दिन बढ़ती जा रही है। उन्होंने इस अवसर पर हिंदी की उपयोगिता और चलन पर कविताएं और मुक्तक भी प्रस्तुत कर हिंदी की उपयोगिता का आभास करा के सभी का मन मोह लिया। इस अवसर पर प्राचार्या डॉ. प्रीता कौशिक व विभागाध्यक्ष राजन देवी भी मुख्यरूप से मौजूद थीं।

loading...
SHARE THIS

0 comments: