Sunday, September 17, 2017

किसान व मजदूर विरोधी नीतियों के कारण किसान कर रहे आत्महत्या ; सुभाष लाम्बा


फरीदाबाद, 17 सितम्बर (abtaknews.com )किसान व मजदूर विरोधी नीतियों के कारण किसान आत्महत्या कर रहे और मजदूरों को न्यूनतम वेतन तक नही मिल रहा है । इसलिए किसानों व मजदूरों को एकता को मजबूत करते हुए सरकार पर दबाव बनाने के लिए मजबूत आन्दोलन का निर्माण करना होगा । यह आह्ववान अखिल भारतीय किसान सभा के 34 वें राष्ट्रीय सम्मेलन के लिए गठित स्वागत समिति के सह सचिव एवं सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लाम्बा ने 3 अक्तूबर को हिसार में आयोजित किसान मजदूर महारैली के लिए चलाये जा रहे जन सम्पर्क अभियान के तहत मोहना, जवां, दयालपुर व पन्हेड़ा कलां मे आयोजन सभाओं में बोलते हुए किया । उनके साथ किसान सभा के जिला प्रधान नवल सिंह ,एएचपीसी वर्कर यूनियन के प्रधान रमेश चंद तेवतियां, सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के खंड बल्लभगढ के प्रधान परमाल सिंह, बिजली यूनियन के नेता मदन शर्मा  ,मनोज जाखड़ व प्रेम सिंह आदि थे। स्वागत समिति के प्रधान नवल सिंह ने आरोप लगाया की सरकार गरीब लोगो को मकान व अन्य सुविधाएं मुहैया करने के नाम पर जनता से भारी कर वसूल रही है और कारपोरेट घरानो को टेक्सो मे लाखों करोड़ की राहत प्रदान कर रही है । जिसका महीरैली में विरोध किया जायेगा ।
सभाओं को सम्बोधित करते हुए महासचिव सुभाष लाम्बा ने कहा कि सरकार किसानों के कर्जे माफ करने व स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट लागू करते हुए फसल की लागत की डेढ गुणा रेट देने के चुनावी वादो पर अमल करने की बड़े कारपोरेट धरनों को लाखो करोड़ की टेक्सों में छूट प्रदान कर रही है । उन्होने प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना पर सवाल उठाते हुए कहा कि किसानों की मर्जी के बिना बीमा राशि काटना कानूनी गल्त है । उन्होने कहा की पिछले वर्ष सरकार ने किसानों के खातों से काटकर बीमा कम्पनियां को 21500 करोड़ प्रीमियम दिया । किसानों ने विभिन्न कारणों से फसल बर्बादी का 4200 करोड़ मुआवजा देने का क्लेम किया ,लेकिन बीमा कम्पनियां ने किसानों को केवल मात्र 714 करोड़ ही मुआवजा दिया । इससे बड़ी क्या लूट होगी । उन्होने कहा की सरकार की नीतियों के कारण आज कृषि धाटे का सौदा बन गया है और कोई खेती नही करना चाहता । खाद बीज, कीटनाशक, डीजल महंगे होते जा रहे है । फसल का लाभदायक रेट न मिलने से किसान संकट में है और रोजाना 52 किसान आत्महत्या कर रहे है । उन्होने कहा की 3 अक्तूबर को किसान मजदूर रैली में इन मुद्दों को प्रमुखता के उठाया जायेगा और सम्मेलन के समापन पर 6 अक्तूबर को राष्ट्रीय स्तर पर आन्दोलन का ऐलान किया जायेगा । उन्होने सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा की तरह से 14 अक्तूबर को हुड्डा प्रशासक कार्यालय के घेराव का भी पुरजोर समर्थन किया ।
सभाओं को अमरनाथ बीसवाँ, राजपाल पहलवान, मदन शर्मा ,सुनील शर्मा ,मा.अमीचंद,रामभूल लाम्बा,मनोज घणघस, दयाराम, गोविंद राम, नरबीर सिंह, भानू प्रताप मलिक, नाहर सिंह आदि ने सम्बोधित किया। सभाओं में 3 अक्तूबर को हिसार में आयोजित किसान मजदूर रैली में बढचढ कर भाग लेने की निर्णय लिया ।

loading...
SHARE THIS

0 comments: