Friday, September 29, 2017

एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने किया ओबीसी प्रदेश चेयरमैन राकेश भड़ाना का भव्य स्वागत


फरीदाबाद(abtaknews.com) कांग्रेस ओबीसी सैल के प्रदेश चेयरमैन राकेश भड़ाना ने कहा कि भाजपा की नीति और नीयत में जमीन-आसमान का अंतर है, चुनावों से पूर्व छात्र संघ चुनाव कराने का वायदा करने वाली भाजपा सत्ता में आने के बाद अपने वायदे से मुकर्र गई और आज भाजपा सरकार में सबसे ज्यादा युवाओं व छात्रों का शोषण हो रहा है। उन्होंने कहा कि हालात ऐसे हो गए है कि अगर छात्र व युवा अपनी मांगों के लिए धरने-प्रदर्शन करते है तो सरकार तानाशाही रवैया अपनाते हुए उन पर लाठीचार्ज या झूठे मुकदमें दर्ज करके उनकी आवाज दबाने का काम कर रही है, जिसे कांग्रेस पार्टी कतई बर्दाश्त नहीं करेगी और भाजपा सरकार के खिलाफ जनांदोलन करेगी।  श्री भड़ाना आज एनआईटी विधानसभा क्षेत्र के गांव खेड़ी गुजरान में एनएसयूआई द्वारा आयोजित विशाल सभा को बतौर मुख्यातिथि संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर एनएसयूआई के अंकित भड़ाना, आजाद सरपंच, करण भड़ाना, सचिन फागना, कपिल भड़ाना, मनीष भड़ाना, हितेश फागना, जतिन भड़ाना, श्रवण भड़ाना आदि युवाओं ने राकेश भड़ाना का सभा में आने पर फूल मालाओं से भव्य स्वागत किया। सभा में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राकेश भड़ाना ने कहा कि भाजपा सरकार के तीन वर्ष के कार्यकाल में हरियाणा सहित फरीदाबाद जिला विकास के मामले में दसियों वर्ष पीछे छूट गया है, आज लोग बिजली-पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं से महरूम तो हो ही रहे है, साथ ही साथ युवाओं को रोजगार से वंचित रखा जा रहा है और लोग फिर से कांग्रेस शासनकाल को याद करने लगे है। श्री भड़ाना ने जोर देते हुए कहा कि अगर भाजपा ने जल्द ही छात्रसंघ चुनाव नहीं करवाए तो कांग्रेस के युवा कार्यकर्ता सरकार के खिलाफ सडक़ों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन करने से गुरेज नहीं करेंगे। उन्होंने सभा में उपस्थित युवाओं से आह्वान किया कि वह भाजपा की जनविरोधी नीतियों के बारे में लोगों को जागरुक करें और कांग्रेस शासनकाल में हुए विकास कार्याे का ब्यौरा लोगों तक पहुंचाए ताकि आगामी लोकसभा व विधानसभा चुनावों में भाजपा सरकार का सूपड़ा साफ करके फिर से कांग्रेस को सत्तासीन किया जा सके। इस अवसर पर जतिन भाटिया, धीरज पंडित, मनोज प्रधान, अरविंद फागना, बलराज फागना, अशोक भड़ाना सहित अनेकों युवा कार्यकर्ता मौजूद थे।




loading...
SHARE THIS

0 comments: