Sunday, September 10, 2017

अनंगपुर चकबंदी मामले की होगी न्यायोचित जांच : अश्विनी त्रिखा


फरीदाबाद(abtaknews.com)गांव अनंगपुर में प्रशासन द्वारा की जा रही चकबंदी को लेकर आज सैकड़ों लोगों ने बडखल की विधायक श्रीमती सीमा त्रिखा की अनुपस्थिति में उनके पति एवं वरिष्ठ भाजपा नेता अश्विनी त्रिखा से मुलाकात कर उपमंडल के एसडीएम रीगन कुमार के खिलाफ सख्त कार्यवाही किए जाने की मांग की। ग्रामीणों का आरोप था कि बडखल के एसडीएम रीगन कुमार ने कानून को धत्ता बताकर भूमाफियाओं से सांठगांठ कर ग्रामवासियों के साथ अन्याय करने का काम किया है। इस अवसर पर ग्रामीणों ने एसडीएम के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। ग्रामीणों ने श्री त्रिखा को मुख्यमंत्री के नाम सौंपे पत्र में बताया कि अनंगपुर गांव में सरकार द्वारा जमीन की तसकीम की प्रक्रिया चल रही है, जिसको लेकर ग्रामीणों ने गुरुग्राम के कमिश्रर को प्रार्थना पत्र देकर आवेदन किया था कि गांव के पहाड के खेवट नंबर 247, 248, 249, जो कि शामलात देह के है, को भी चकबंदी का हिस्सा बनाया गया है और कम से कम 50 खेवट खसरा नंबर को चकबंदी में बांटा गया है, जिस पर चकबंदी शुरु होते ही साफ बताया गया कि 247 जमीन की हिस्सा नहीं होगी, इसके बावजूद भी एसडीएम द्वारा 247 खेवट नंबर पर चकबंदी की जा रही है। ग्रामीणों ने बताया कि चकबंदी होने से पहले कॉमन पर्पस के लिए जो जमीन नालों, तालाब, स्कूल, अस्पताल व खेल के मैदान, श्मशान घाट वगैरहा में बांटा गया था, लेकिन अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर कुछ लोगों ने अपनी कम जमीन के बदले ज्यादा जमीन ले ली। वहीं पीडब्ल्यूडी के 58.9 फुट रोड को घटाकर 22 फुट कर दिया गया, जिसमें बड़ा गोलमाल किया गया है। गुरुग्रम कमिश्रर के द्वारा नियुक्त किए गए जांच अधिकारी डीआरओ फरीदाबाद ने भी ग्रामीणों के इन सभी प्वाइंट पर अपनी सहमति जताई है। ग्रामीणों ने श्री त्रिखा से गुहार लगाते हुए कहा कि उन्हें न्याय दिलाया जाए। इस मौके पर भाजपा नेता अश्विनी त्रिखा ने लोगों से उक्त मामले की सभी बारीकियों को समझते हुए उचित न्यायोचित कार्यवाही किए जाने का आश्वासन देते हुए कहा कि इस मामले को लेकर कोई कोताही नहीं बरती जाएगी तथा इस संबंध में एक कमेटी गठित कर दी गई है, जो इस पूरे मामले की जांच करेगी। इस कमेटी में दो जिला उपायुक्त तथा तीन एसडीएम स्तर के अधिकारियों को शामिल किया गया है। इस मौके पर चौ. लीलू सिंह, राजकुमार भड़ाना, रत्नलाल, ईश्वर सिंह, हरिराम भड़ाना, प्रेम सिंह महाशय, सुभाष, ऋषिपाल भडाना, प्रमोद भड़ाना, तेजपाल छोटू, दिनेश सिंह, संतराम, आजाद सिंह, अज्जीपाल, अजीत सिंह, वीरपाल सिंह, ब्रहमसिंह, चौधरी छत्तरपाल, जयपाल सिंह, कृपाल सिंह, ओमन सिंह सहित अनेकों ग्रामीण मौजूद थे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: