Thursday, September 7, 2017

हरियाणा पुलिस से इकलौते बेटे की मौत का इंसाफ मांग रही माँ को नहीं मिल रहा न्याय




फरीदाबाद(abtaknews.com) : सेवा सुरक्षा और सहियोग का नारा देने वाली हरियाणा पुलिस से एक माँ को नहीं मिल रहा न्याय। फरीदाबाद में एक मां अपने इकलौते बेटे की मौत का इंसाफ मांग रही है लेकिन हरियाणा पुलिस है जो उसे को धक्का मार कर बाहर निकाल देती है पुलिस पर ये आरोप है एक माँ का। जी हां मामला दिल्ली से सटे फरीदाबाद के सराय थाने का है, जहां पंचशील कॉलोनी में रहने वाली रीता के इकलौते बेटे को उसके ही दोस्तों ने मौत की नींद सुला दिया यही आरोप और न्याय की गुहार लेकर माँ थाने पहुंची थी लेकिन पुलिस ने उसे इन्साफ के बदले धक्के दे कर बाहर कर दिया। 

थाना सराय ख्वाजा का है यहां कुछ महिलाएं बेटे की मौत का दर्द झेल रही एक माँ के साथ पहुंची है एक मा द्वारा अपने बेटे को खोने का दर्द इनके चेहरों पर साफ दिखाई दे रहा है। पुलिस कर्मियों से शिकायत करती दिखाई दे रही है रीता नाम की महिला है, जिसका बेटा आजाद अब इस दुनिया में नहीं रहा है।  वो चिल्ला चिल्लाकर कह रही है कि उसके बेटे की हत्या हुई है लेकिन पुलिस उसकी बात को नहीं सुन रही है। रीता की मानें तो 24 अगस्त को उसके 15 वर्षीय बेटे आज़ाद को उसके ही पड़ोस में रहने वाले को उसके दोस्त गोल्डी और लंबू  5 मिनट मिनट में घर वापसी भेजने की बात  कहकर उसे घर से बुलाकर ले गए थे। लेकिन आजाद जाने के बाद आज तक वापस नहीं आया आई तो उसके मौत की खबर। पुलिस ने  2 दिन बाद उसकी डेड बॉडी यमुना से  बरामद की।   पुलिस ने शव की पहचान कर उसका पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया।  जब रीता को अपने बेटे की मौत की पता चली तो उसने पुलिस को शिकायत की कि उसके बेटे की हत्या की है क्योंकि उसके दोनों दोस्त उसे 5 मिनट के लिए कह कर ले गए थे लेकिन दोनों दोस्त वापस आ गए लेकिन उसके बेटे के बारे में वह दो दिन तक उन दोनों लड़कों से पूछती रही लेकिन किसी ने कुछ नहीं बताया। जब रीता को दोनों दोस्तों पर हत्या का शक हुआ तो उसने पुलिस में शिकायत भी की और FIR भी दर्ज हुई लेकिन उसे इंसाफ अभी तक नहीं मिला है घटना को  बीत जाने के बाद आजतक पुलिस दोनों आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। पीड़ित रीता की मानें तो पुलिस उन्हें बचाने में लगी हुई है। 

सराय थाने के एसएचओ अनिल कुमार ने अबतक न्यूज़ मीडिया टीम को बताया कि 26 अगस्त को एक युवक की डेड बॉडी यमुना में से निकाली गई थी और 27 तारीक को जिसका पोस्टमार्टम भी कराया गया और उसमें उसकी पानी में डूबकर मौत होने की पुष्टि हुई है।  अब परिजनों ने उसके दोनों दोस्तों पर हत्या का शक जताया है, इस आधार पर भी हम जांच कर रहे हैं। वहीं उन्होंने नवीन नगर चौकी इंचार्ज द्वारा मृतक की मां के साथ किए गए दुर्व्यवहार की भी जांच करने की बात कही है। 

अब सबसे बड़ा सवाल यह है की आजाद  के दोस्त उसे घर से बुला कर ले गए थे और नहाते समय उसकी मौत हो गई तो दो दिन तक उन्होंने यह बात आजाद की माँ और अपने परिवार से क्यों छुपाये रखी यही कारण है की आजाद की हत्या होने की सूई उनपर घूमती है। लेकिन हकीकत क्या है और माँ को इंसाफ तो पुलिस की जाँच  के बाद ही मिल पायेगा। और क्या पुलिस उन पुलिस कर्मियों पर कोई कारवाही करेगी जिन्होंने एक पीड़िता माँ हो पुलिस चौकी से धक्के देकर बहार किया था। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: