Thursday, September 14, 2017

हरियाणा मे हुए सर्वे, प्रदेश की जनता का भाजपा सरकार से हो चुका हैं मोह भंग


फरीदाबाद (abtaknews.com) हरियाणा भाजपा के नेता व मंत्री मोदी की मेहनत पर पानी फेरने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है। जब जब इन्हे मौका मिलता है बिलकुल भी चूकते नहीं है। तीन साल में तीन बड़े बवाल में समूचे हरियाणा की छवि धूमिल हुई है। प्रदेश में कराये गए दो सर्वे, जिसमे क्षेत्र की जनता ने भाजपा सरकार को सिरे से नकार दिया हैं। प्रदेश का मुखिया जब सिर्फ अपनी अच्छाई ही सुनने का आदि हो फिर भला जनता का क्या होगा, बुराई करने वाला, आलोचना करने वाला सबसे बड़ा शुभचिंतक होता है लेकिन सूबे के प्रधान को तो केवल अच्छा अच्छा सुनने की आदत है। 
डूसू चुनाव में दिल्ली के युवाओं ने भाजपा सरकार का नकार दिया है अब बारी हरियाणा की है। हरियाणा के 10 में से 7  सांसद भाजपा के हैं जिसमें से 5 सरकार की खिलाफत करने लगे है अभी ये संख्या और बढ़ेगी। हरियाणा की कुल 90 विधान सभा सीटों में से भाजपा के 47 विधायक हैं । मनोहर लाल खट्टर हरियाणा के मुखयमंत्री बने।  प्रदेश में तीन साल में तीन बड़े विवाद जिसके चलते करोड़ों की सम्पति का नुकसान और सैंकड़ो जाने गई।
अच्छी बातें सुनने की आदि खट्टर सरकार हमेशा विपक्ष की आलोचना के निशाने पर रही। हरियाणा में किसी भी तरह से नहीं लगता की सरकार नाम की भी कोई चीज हरियाणा में है। पार्टी  आधे से ज्यादा सांसदों और 70 फीसदी विधायकों के टिकट काटकर नए उम्मीदवार मैदान  में उतार सकती है। लोकसभा चुनाव के साथ हरियाणा विधान सभा के आम चुनाव समय से पहले कराये जाने पर भी विचार किया जा रहा है। हरियाणा में वापसी तभी संभव है जब कैंडिडेट बदले जायेंगे वर्ना कोई लहर काम नहीं आएगी। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: