Monday, September 18, 2017

ना खून बोलता, न रिश्ता बोलता है अगर कुछ बोलता है तो सिर्फ पैसा बोलता है


फरीदाबाद 18 सितंबर(abtaknews.com)विजय रामलीला के इतिहासिक रंग मंच पर निर्देशक सुरिंदर सराफ द्वारा लिखा गया हास्य नाटक - पैसा बोलता है। कल देर रात तक रामलीला कमेटी के मंच पर तालियों की गडग़ड़ाहट और हसी के गुलगुलों के साथ चलता रहा। मुख्य भूमिका में सेठ जीवन दास (श्री टेकचन्द नागपाल), सेठानी ललिता (श्री मनोज शर्मा),  नौकर भूषण (श्री वैभव लरोइया) ने मंच पर कमाल का अभिनय किया और दर्शकों का मन जीत लिया। आज इसी मंच पर रामायण की ज्योत प्रचण्ड की जाएगी और रावण के दुराचार की गाथा दिखाई जाएगी और अंत मे पृथ्वी माँ इसके दुष्कर्मो से त्रास होकर श्री विष्णु के पास फरियाद लेकर जाएंगी।

loading...
SHARE THIS

0 comments: