Tuesday, September 19, 2017

पलवली हत्याकांड के 18 आरोपियों को कोर्ट में किया पेश, 4 दिन के पुलिस रिमांड पर




video

ग्रेटर फरीदाबाद (abtaknews.com) 19 सितंबर,2017 ; गांव पलवली में गत दिवस हुए ख़ूनी संघर्ष में मारे गए एक ही परिवार के 5 लोगो के हत्यारे आरोपियों को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया, जिसमें 15 पुरूष, 2 महिला और एक नाबालिग कुल मिलाकर 18 आरोपियों को पेश किया गया। पुलिस ने आरोपियों का रिमांड लेने के लिये समय मांगा था, जिसपर कोर्ट ने 11 आरोपियों को 2 दिन का, 4 आरोपियों को 4 दिन का रिमांड दिया और नाबालिग को ऑबजर्बेशन होम के लिये भेज दिया है, पुलिस ने कोर्ट से हत्या के समय प्रयोग किये गये हथियारों की बरामदगी के आधार पर रिमांड मांगा था। एडवोकेट अश्वनी त्रिखा पीड़ित परिवार का बचाव कर रहे है। 


loading...
SHARE THIS

1 comment:

  1. ये वीडियो मेरे मामा की हैं {बिल्लु सरपंच}
    ये सब मेरे मामा के घर मे हुआ है। मेरे मामा बिल्लू सरपंच जिंदगी और मौत के बीच लड रहे है। इस लड़ाई की शुरुआत पहले दूसरे इन्सानो ने की।मामा बिल्लू सरपंच को पहले उन्होने अकेले घेरा और फिर घेरे में लेकर फरसों और लोहे के पाइप से मामा को 15 इन्सानो ने मारा।उसके बाद मेरे परिवार के सदस्य के पास एक व्यक्ति ने मामा की मारे जाने की बात बताई, उसके बाद मेरे परिवार(मेरे नाना ,छोटे मामा)पहुचे,वो लोग तब भी फरसे और लोहे की पाइप बरसा रहे थे।मेरे नाना ने हवाई फायर किये ,लेकिन वो लोग वहा से नही हटे उसके बाद ही हुआ जो नही होना था।...... अब इसे गुंडागर्दी कहे या फिर अपने कह खुश हाल परिवार की रक्षा।।।।।।।

    सबकुछ गलत हुआ, सिर्फ इस बेवकूफ़ इंसान (हरीश शर्मा उर्फ चिल्लू) की वजह से।।।ऐसे झगड़े पहले भी हुए है, और इसकी और इसके परिवार उनमे मुख्य भूमिका निभाई है।।।।।
    ... सबसे प्यारी चीज इस दुनिया मे परिवार होता है। परिवार मे भाई को भाई सबसे प्यारा होता है।।...... भाई को मरा देख और उसपर हमला होते देख हर कोई अपनी ताकत लगा देता है।।अपनो को बचने के लिए हथियार उठाने पड़ते है,कोई भी व्यक्ति किसी का परिवार खराब करने नही चाहता लेकिन वक़्त ,हालात सब करवा देता है।।।..
    डूब के मरनेे वाला भी अपने लिए बहौत हाथ, पैर मारता है।।। .... लकीन ये कडवा सचे है,जो हुआ सब उस एक बेवकूफ इंसान की वजह से।।।...... हिंदू है हम।।।जन्मदिगनी है हम।।।।।... जय परशुराम .. .....

    ReplyDelete