Sunday, August 13, 2017

जन्माष्टमी पर श्रीबांके बिहारी मंदिर में देश की शान लालकिला होगा मुख्य आर्कषण का केन्द्र


shri-banke-bihari-mandir-nit-faridabad

फरीदाबाद (abtaknews.com) 13 अगस्त,2017; हर वर्ष की भांति इस बार भी मंदिर श्री बांके बिहारी नम्बर-5 में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव धूमधाम से मनाया जाएगा। मंदिर के इस कार्यक्रम को भव्य,सफल और यादगार बनाने के लिए मंदिर के प्रधान ललित गोस्वामी के नेतृत्व में सनातन सभा की पूरी टीम दिन रात एक किए हुए है। इस शुभ अवसर पर मुख्य अतिथि केन्द्रीय राज्यमंत्री चौ.कृष्णपाल गुजर्र,केबीनेट मंत्री विपुल गोयल,विधायक सीमा त्रिखा होगें। कार्यक्रम की अध्यक्षता डा0.प्रशांत भल्ला प्रेसीडेंट मानव रचना इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी करेगें। इसके अलावा अतिविशिष्ट अतिथि के.सी लखानी चेयरमेन लखानी अरमान ग्रुप,एच.के बत्तरा एमडी एल.आर फूड प्रा0.लि0.सतीश गौंसाई एमडी सेकूरिको इलेक्ट्रानिक्स इंडिया लि0.,अश्वनी प्रभाकर सीईओ एनजीएफ कालेज ऑफ इंजीनियरिंग,प्रदीप मोहंती एमडी सलेजहेमर,पंडित रमणीक प्रभाकर महासचिव एमएएफ,शम्मी कपूर सीईओ सुपर स्क्रयू प्रा0.लि0.,नवीन सूद एमडी वी-जी इडस्टीयल इनट प्रा0.लि0.,तजेन्द्र मलिक डायरेक्टर यमन इडस्ट्रीज उपस्थित होगें। जबकि आशीष दाता परम पूज्य पीर जगन्नाथ जी,महन्त कैलाश नाथ हठयोगी जी,महन्त गंगा नाथ जी,श्री किलकारी बाबा भैरो नाथ जी मंदिर,पाण्डव कालीन,पुराना किला नई दिल्ली,महन्त शिव कुमार जी(बाला जी स्थान,बादली वाले) व आचार्य संतोष जी महाराज होगें। मंदिर के प्रधान ललित गोस्वामी नेें बताया कि इस बार मंदिर में देश की शान लाल किला भक्तों के आर्कषण का मुख्य केन्द्र होगा। जिसे खासतौर पर मथुरा के कुशल कारीगरों द्वारा कुछ इस तैयार किया जा रहा है मानो सचमुच का लालकिला बांके बिहारी मंदिर में उतर आया हो। इसके अलावा कमल के फूल में लक्ष्मी जी,25 से 30 फुट ऊचंा त्रिशुल और डमरू,20 फुट ऊंचे पर्वत पर श्ंाकर जी की जटा से गंगा अवतरण,शीर सागर,फूलों का झूला,मोरों के बीच जंगल में कृष्ण कन्हैया,बाबा बर्फोनी की गुफा सहित कई झांकिया लोगों को दांतो तले ऊगंली दबाने पर मजूबर करेगीं।
shri-banke-bihari-mandir-nit-faridabad

ललित गोस्वामी ने बताया कि झांकियों का इचार्ज राजीव दत्ता और सतीश अरोड़ा को बनाया गया है जिनकी देखरेख में मनमोहक और सुन्दर झांकियां बनाई जा रही है। ललित गोस्वामी ने बताया कि उनकी हमेशा से ही यह मंशा रही है कि मंदिर में होने वाले इस कार्यक्रम को कुछ इस तरह किया जाए ताकि लाखों की तादाद में आने वाले भक्त चाहे वे किसी भी धर्म अथवा सपं्रदाय के हो यहां आकर भाव विभोर हो जाएं। उन्होनें बताया कि जन्माष्टमी वाले दिन पूरा मंदिर दूधिया रोशनी से नहाया सा लगेगा और मंदिर के चारों और लगाई गई रंग-बिरंगी लाईटे एक अलग ही छठा बिखेर रही होगी। उन्होनें कहा कि यदि कोई भक्त किसी कारणवंश मंदिर में नही आ सकता तो उन्होनें जन्माष्टमी के इस कार्यक्रम की ऐसी व्यवस्था कर रखी है जिसे वो पूरे कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दिशा चैनल  पर घर बैठकर देख सकता है।


loading...
SHARE THIS

0 comments: