Sunday, August 13, 2017

जगदंबा प्रशाद सिंह से जे पी सिंह बनने वाले ''नटवर '' की सीबीआई को है तलाश

jagdamba-prashad-singh-j-p-singh-fraud-modi-vichar-manch-faridabad

फरीदाबाद(abtaknews.com) उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के गांव गढ़रामपुर निवासी जगदम्बा प्रशाद सिंह उर्फ़ जे पी सिंह आज से तक़रीबन 30 साल पहले ए सी नगर में अपने परिवार के साथ रहता था।उक्त जानकारी फरीदाबाद के कई पीड़ितों ने अबतक न्यूज़ कार्यालय में संपर्क कर बताई। जेपी सिंह ने कभी नौकरी नहीं कि हमेशा तिकड़मबाजी से ही अपना परिवार पाला।पहले जे पी सिंह ने हरियाणा एंटी करप्शन ब्यूरो की स्थापना की जिसके नाम पर वह डिपो होल्डर्स और बिजली वालों से अवैध वसूली करता था। फरीदाबाद और पलवल में जे पी सिंह द्वारा ठगी का शिकार होने वालों की लंबी सूचि है। जे पी सिंह ने अग्रसैन विवाह सम्मलेन के अध्यक्ष ब्रह्मप्रकश गोयल और  पलवल के ओमप्रकाश गर्ग को भी चूना लगाया। 

अपनी तिकड़मबाजी से जे पी सिंह एक बार रेलवे बोर्ड का सदस्य बना और इस दौरान इसने रेलवे में नौकरी लगवाने के नाम पर नौजवानों से जमकर रिश्वत लेकर खूब चांदी काटी।कांग्रेस के शासन काल में राहुल गाँधी का विश्वासपात्र बनकर लोगों से मोटे पैसे वसूल कर उन्हें चेयरमैन और विभिन्न बोर्डों का सदस्य बनवाने का काम करता था। सत्ता परिवर्तन हुआ तो मोदी सरकार में नजदीकी स्थापित करने के लिएउसने नरेंद्र मोदी विचार मंच बनाया जिसका स्वयं राष्ट्रीय अध्यक्ष बना और थोड़े समय में ही देशभर में उसकी ब्रांच बना दी।   

कई पीड़ितों ने अबतक न्यूज़ के ऑफिस में फ़ोन करके बताया कि फरीदाबाद के सेक्टर 21 सी के साथ इंद्रा इंक्लेव में रह रहा ''नटवर'' जे पी सिंह ने मोदी के प्रधान मंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी विचार मंच  नाम की दुकान खोली और अच्छे-अच्छे रसूकदारों और व्यवसायिओं को अपने साथ जोड़ लिया और उनसे मोदी के नाम पर चंदे के रूप में जमकर वसूली की। मोदी के नाम पर खोली संस्था के चलते वह आसानी से भाजपा के केंद्रीय मंत्रियों से मिलने लगा, मंत्रीओ के साथ फोटो दिखाकर लोगो का विश्वास आसानी से जीत लेता और मोदी विचार मंच के नाम पर जमकर उगाही करता था।  मोदी विचार मंच की वेबसाइट  www.nmvmindia.org पर अभी भी प्रधानमंत्री के चित्र और कई केंद्रीय मंत्रियों के साथ इसके फोटो लगे हुए हैं। फरीदाबाद के कई नामी व्यवसाई और कॉलेजों के प्रसिद्ध प्रोफेसर जुड़े हुए हैं। 
खबर की पुष्टि के लिए जब वेबसाइट  www.nmvmindia.org  पर दिए गए फ़ोन नंबर पर संपर्क करने का प्रयास किया गया तो सभी फ़ोन बंद आ रहे थे। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: