Wednesday, August 9, 2017

बी के सिविल अस्पताल और नगर निगम दे रहा बिमारियों को न्यौता



फरीदाबाद(abtaknews.com) 09 अगस्त,2017; स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम इन दिनों आम लोगो को बीमारी परोश रहा है और इसका कारण बन रही है अस्पताल में बनी कैंटीन,जिसका गंदा पानी अस्पताल से होते नगर निगम के गेट पर पहुँच गया है. लेकिन शहर को स्मार्ट सिटी बनाने का दावा करने वाली नगर निगम जब अपने गेट की सफाई नहीं कर सकता तो शहर को कितना स्मार्ट बना पाएगी  और अस्पताल के अंदर से गंदा पानी आ रहा है जिसकी वजह से चारो और बदबू फ़ैल रही है जिससे लोगो को बिमारी फैलने का खतरा बना हुआ है यहाँ आने वाले लोग अब कहने लगे है की अस्पताल अंदर तो इलाज कर रहा है और बाहर बिमारी फैला रहा है।    

शहर के हालत देखकर आप खुद अंदाजा लगा सकते है  की जब खुद शहर का सबसे बड़ा अस्पताल गन्दगी फैला रहा हो और गन्दगी शहर के सबसे बड़े नगर निगम के गेट तक जा पहुंची हो. जिनपर शहर  को साफ़ सुथरा और स्वस्थ रखने  जिम्मेदारी है।  यह गन्दगी निगम  के गेट पर लगे मुख्यमंत्री की तस्वीर को मुँह चिढ़ा रही हो बावजूद इसके इसके समाधान के लिए न तो नगर निगम और न ही अस्पताल के कानो पर कोई जूं रेगी है। दरअसल में इसकी मुख्य जिम्मेदार है अस्पताल में महाराजा अग्रसैन के नाम से बनी कैंटीन जो एक एनजीओ द्वारा चलाई जा रही है.इस कैंटीन का उद्धघाटन केबिनेट मंत्री विपुल गोयल ने  किया था।  वैसे तो यह कैंटीन यहाँ आने वाले लोगो को 10 रूपये में खाना परोसती है लेकिन इससे निकलने वाला गंदा पानी अस्पताल के गेट से होते हुए नगर निगम के गेट तक जा पहुंचा है लेकिन शायद दोनों ही कुम्भकर्णी नींद में सोये हुए है इसकी वजह से दोनों में से कोई भी इसकी सुध नहीं ले रहा है। जब हमने इस कैंटीन की देखरेख करने वाले मैनेजर से बात की तो उसने भी इस गन्दगी के फैलने के पीछे अपने आप को जिम्मेदार माना और कहा की इसकी शिकायत कई बार की जा चुकी है जिसे जल्द ठीक  करा दिया जाएगा। 

अस्पताल एवं नगर निगम में आने राम और सुभाष ने अबतक न्यूज़ टीम को बताया कि इस कैंटीन से निकलने  वाला गंदा बदबूदार पानी अस्पताल से होकर निगम के गेट तक जा पहुँचा है लेकिन इसकी कोई भी सुध लेने वाला नहीं है ,अस्पताल अंदर तो इलाज कर  रहा है और बाहर गन्दगी फैला रहा है। इस मामले में जब हमने अस्पताल और नगर निगम के अधिकारियों से बात करने का प्रयास किया तो दोनों ने कैमरे पर कुछ भी कहने से साफ़ मना कर दिया। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: