Sunday, August 13, 2017

सराय ख्वाजा सरकारी स्कूल के बच्चों ने राष्ट्रीय अंगदान दिवस पर निकाली जागरुकता रैली


फरीदाबाद (abtaknews.com) 13 अगस्त,2017; राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सराय ख्वाजा फरीदाबाद में विश्व युवा दिवस के अवसर जूनियर रैडक्रास, सैंट जान एंबुलैंस बिगे्रड और स्काउट एण्ड गाइडस ने प्राचार्या अंजु छाबडा के निर्देशानुसार विद्यालय की जूनियर रैडक्रास व सैंट जान एंबुलैंस बिगे्रड अघिकारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा तथा स्काउट एण्ड गाइडस प्रभारी देशराज गोला ने मिल कर विश्व अंगदान दिवस पर अंगदान जागरुकता अभियान का आयोजन किया। छात्रों ने अंगदान विषय पर पोस्टर व स्लोगन के द्वारा अंगदान की आवश्यकता के बारे में अपनी भावनाओं को व्यक्त किया। इस अभियान के संयोजक रविन्द्र कुमार मनचन्दा ने छात्रों को बताया कि कोई भी व्यक्ति मृत्योपरान्त या ब्रेन डेथ की अवस्था में अंगदान कर आपात स्थिति में जरुरतमन्द व्यक्ति की जीवन रक्षा कर उसे जीवन दान दे सकता है। उन्होने बताया कि मानव के किडनी, लीवर, दिल, छोटी आंत, बडी आंत, हडडियां एवम नेत्रों का एकमात्र साधन स्वयं मानव ही है इसलिए सभी लोग मृत्योपरान्त अंगदान के वास्ते आगे आए और मानवता के प्रति अपना कर्तव्य निभाए। मृत्योपरान्त हमारा शरीर या तो दफना दिया जाता है या जला दिया जाता है, बेहतर है कि अंगदान या देहदान के द्वारा दूसरे जरुरतमन्द व्यक्ति का जीवन स्वर्ग बना सकते है।      
विद्यालय के स्काउट एण्ड गाइडस प्रभारी देशराज गोला ने बताया कि भारत में जागरुकता के अभाव में तीस लाख लोगों में केवल एक ही व्यक्ति अंगदान कर पाता है जब कि स्पेन में जागरुकता के होते हुए हर दस लाख व्यक्तिओं में छतीस व्यक्ति अंगदान करते है सरकार का प्रयास है कि 2020 तक हर एक लाख व्यक्तिओं में कम से कम एक व्यक्ति अंगदान के लिए आगे आए।

इस अवसर पर छात्रों ने बहुत सुन्दर व आर्कषक स्लोगन और पोस्टर बना कर अंगदान के लिए दूसरो को भी तैयार करने के लिए पे्ररित किया और रविन्द्र कुमार मनचन्दा तथा देशराज गोला के अगुआई में जागरुकता रैली निकाली, जागरुकता रैली सराय ख्वाजा के प्रमुख बाजार, गलियों, जी टी रोड व टोल प्लाजा होती हुई विद्यालय आकर सम्पन्न हुई। रविन्द्र कुमार मनचन्दा,  मनोज शास्त्री, देशराज, रन्जीव मान, विनय कुमार, मनोज कुमार, वेदवती, र्तप्ता, पल्लवी और लोकेश पी टी आई ने अंगदान को सर्वोतम दान बताया क्योंकि एक व्यक्ति अंगदान कर के ही  दूसरे को जीवन का वरदान दे सकता है उन्होनें बच्चों की पोस्टर व स्लोगन के माध्यम से समाज के प्रत्येक वर्ग को अंगदान के प्रति व विशेष रुप मृत्योपरान्त अंगदान से सचेत करने के प्रयासों की सराहना की।


loading...
SHARE THIS

0 comments: