Friday, August 4, 2017

टोने टोटके के बाद भी कृष्णा कालोनी में कटी एक युवती की चोटी


फरीदाबाद 4 अगस्त,2017(abtaknews.com) पूरे देश में महिलाओं से लेकर युवती व बच्चियों की चोटी काटने की वारदातें हो रही है, लेकिन अभी तक किसी को पता नहीं लग पाया है कि आखिर कोन और क्यों महिलाओं की चोटियों का दुश्मन बना हुआ है। दिल्ली एनसीआर में इस तरह की कई घटनायें हो चुकी है। इस क्रम में  फरीदाबाद की कृष्णा कालोनी में एक युवती की चोटी उस समय कट गई, जब वह अपने घर में सोयी हुई थी। उसे चोटी कटने की सूचना उसकी माँ  ने उस समय दी, जब वह उसके कमरे में झाडू लगाने आई हुई थी और उसने वहां उसकी चोटी कटी पाई। फरीदाबाद की कृष्णा कालोनी में सुनीता नामक एक युवती की चोटी उस समय कट गई, जब वह सोयी हुई थी।  उसे चोटी कटने का पता उस समय चला, जब उसकी बुआ कमरे में झाडू लगाने आई और उसने चोटी कटी हुई देखी। इसके बाद पूरा परिवार जाग गया और पुलिस को खबर दी गई। पुलिस ने भी अपनी ओपचारिक निभाते हुए कटी हुई चोटी अपने पास रखने और जांच की बात कही और चली गई।  पीडिता सुनीता की माने तो उसे पता ही नहीं चला कि उसकी चोट कब और किसने काट दी। उसे तो सुब्ह उसकी बुआ ने बताया कि उसकी कटी हुई चोटी जमीन पर पड़ी हुई है।  सुनीता की माँ का कहना है कि उन्होने चोटी काटने की घटनाओं को देखते हुए अपने घर के बहार हल्दी के छापे लगाए थे। लेकिन इसके बावजूद सुनीता की चोटी कट गई। उसे किसने और क्यों काटा, उन्हे पता नहीं है। क्योंकि उन्होने किसी को देखा ही नहीं है। पुलिस को इसकी सूचना दे दी गई। पुलिस ने मौके पर पंहुचकर जांच की और कटी हुई चोटी को अपने पास रखने की बात कहीं। 
अब सवाल यह उठता है कि बडे - बडे अपराधियों को जेल की सलाखों की पीछे पहुंचाने वाली पुलिस भी आखिर इस दहशत का पता क्यों नही लगा पा रही है। क्या पुलिस के उपर इसका कोई दबाव है या पुलिस भी इस तरह के मामलों में हाथ डालने से डर रही है ------?

loading...
SHARE THIS

0 comments: