Tuesday, August 22, 2017

नर्सिंग कालेज संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने सौंपा जिला उपायुक्त को ज्ञापन

फरीदाबाद(abtaknews.com) पृथला क्षेत्र के गांव पन्हेड़ा खुर्द में बनने वाले महिला नर्सिंग कालेज को राजनैतिक कारणों के चलते दयालपुर शिफ्ट करने के विरोधस्वरुप आज नर्सिंग कालेज संघर्ष समिति के प्रधान संदीप शर्मा पन्हेड़ा के नेतृत्व में 11 सदस्यीय कमेटी ने जिला उपायुक्त समीरपाल सरों से मुलाकात करके इस कालेज का निर्माण पन्हेड़ा खुर्द में ही किए जाने की मांग रखी और इस बाबत उन्हें एक ज्ञापन भी सौंपा। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि राजनैतिक कारणों के चलते कुछ स्वार्थी लोग जनभावनाओं का अनादर कर रहे है, जिसे किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
नर्सिंग संघर्ष समिति के प्रधान संदीप शर्मा पन्हेड़ा ने ज्ञापन के माध्यम से जिला उपायुक्त समीरपाल सरों को बताया कि वर्ष 2015 में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने गांव मोहना मेें आयोजित रैली के दौरान पन्हेड़ा खुर्द में महिला नर्सिंग कालेज को बनाए जाने की घोषणा की थी। इतना ही नहीं बल्कि उन्होंने इस कालेज का नाम स्व. बिग्रेडियर चंदन सिंह के नाम पर रखे जाने के ऐलान किया था। मुख्यमंत्री की उक्त घोषणा का गांव पन्हेड़ा सहित अटेरना, हीरापुर, जवां, नरियाला, जल्हाका, मोहना, महमूदपुर व नरहावली के लोगों ने आभार जताया था। इसके बाद संबंधित प्रशासनिक अधिकारियों ने उक्त नर्सिंग कालेज के लिए सर्वे इत्यादि पूरा कर लिया था और ग्राम पंचायत द्वारा कालेज की स्थापना हेतु सभी औपचारिक तैयारियां भी पूरी कर ली गई थी। परंतु इसी दौरान स्थानीय बसपा विधायक पं. टेकचंद शर्मा ने इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए इस कालेज को पन्हेड़ा खुर्द की बजाए दयालपुर में बनाने के लिए आदेश जारी करवा दिए। जब ग्रामीणों को इस बात का पता चला तो उन्होंने विधायक के इस फैसले पर कड़ा विरोध जताया और इस बाबत धरने-प्रदर्शन व संबंधित अधिकारियों को ज्ञापन भी दिए।

ग्रामीणों ने जिला उपायुक्त को बताया कि यह महिला कालेज मुख्यमंत्री द्वारा गांव पन्हेड़ा खुर्द के लोगों को दिया एक तोहफा है इसलिए यह कालेज गांव में ही बनना चाहिए, अगर स्थानीय विधायक जनभावनाओं की कद्र करते है तो या तो वह इस मामले में हस्तक्षेप न करें अन्यथा उन्हें क्षेत्र के लोगों के विरोध का सामना करना पड़ेगा। ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि अगर इस कालेज को दयालपुर में स्थानांतरित किया गया तो वह इस मुद्दे को लेकर जल्द ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मिलेंगे और इस मामले में कोताही बरने वाले अधिकारियों की भी शिकायत करेंगे। जिला उपायुक्त समीरपाल सरों ने ग्रामीणों की समस्या को गंभीरता से सुनने के बाद उन्हें आश्वासन दिया कि आगामी 24 अगस्त को वह इस मामले को लेकर एडीसी, बीडीओ, सीएमओ सहित संबंधित अधिकारियों के साथ मीटिंग करके इस पूरे मामले की जानकारी लेकर ग्रामीणों को राहत देने का काम करेंगे। इस मौके पर पूर्व सरपंच बलवीर गौड़, पुष्पेंद्र कादियान, मानकचंद, इंद्राज मास्टर, डी.के. शर्मा, देवदत्त मेम्बर, चंद्रभान, देवदत्त एडवोकेट, रत्न मास्टर, हरीश शर्मा, कृष्ण गोपाल आदि मुख्य रुप से मौजूद थे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: