Wednesday, August 23, 2017

बाबा गुरमीत राम रहीम केस में सीबीआई न्यायालय द्वारा 25 को निर्णय को लेकर धारा 144


फरीदाबाद, 23 अगस्त,2017(abtaknews.com)जिलाधीश समीरपाल सरो ने आगामी 25 अगस्त 2017 को डेरा सच्चा सौदा सिरसा के प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम सिंह के केस में सीबीआई न्यायालय पंचकुला द्वारा निर्णय लिए जाने के उपरांत जिले में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रण में रखने तथा आम जानमाल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के उद्देश्य से दण्ड प्रक्रिया नियमावली-144 के अन्तर्गत सार्वजनिक स्थानों एवं निजी भवनों के नजदीक के क्षेत्र में पांच या इससे अधिक व्यक्तियों के एक स्थान पर एकत्रित होने पर पाबंदी लगाने के आदेश तुरन्त प्रभाव से जारी किए हैं। श्री सरो ने इस संबंध में जिले के 24 सक्षम एवं वरिष्ठ अधिकारियों को क्षेत्रवार बतौर ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त करने के भी आदेश जारी किए हैं।
आदेशों में कहा गया है कि पुलिस आयुक्त फरीदाबाद द्वारा जिलाधीश के संज्ञान में लाया गया है कि इस निर्णय के आने के उपरांत जिले में आमजन को दिनचर्या में बाधा, जानमाल की हानि, अशांति व रेलवे सम्पत्ति को नुकसान होने का अंदेशा है। अत: जिले में कानून व्यवस्था सुदृढ़ बनाए रखनी आवश्यक है। समस्त जिले में विशेषत: रेलवे ट्रेकों, सडक़ों, सार्वजनिक स्थानों एवं निजी भवनों के नजदीक पांच या इससे अधिक लोगों के एकत्रित होने पर रोकथाम अनिवार्य है। इस पर श्री सरों ने संतुष्टि जताई है कि जिले में वैधित कर्मचारियों, सरकारी अथवा गैर सरकारी सम्पत्ति, जानमाल तथा जनसाधारण को संभावित खतरे से बचाने के लिए निर्देश देना अनिवार्य है।
जिलाधीश ने इस पर संज्ञान लेते हुए दण्ड प्रक्रिया संहिता 1976 की धारा-144 के तहत उन्हें प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए पूरे जिले में 22 अगस्त 2017 से स्थिति सामान्य होने तक यह आदेश लागू किए है। आदेशों के अनुसार जिले में सभी रेलवे ट्रैकों, सडक़ों, सार्वजनिक स्थानों एवं निजी भवनों के नजदीक के क्षेत्र में पांच या इससे अधिक व्यक्तियों के एक जगह पर एकत्रित होने, निजी वॉकी-टॉकी सैटअप प्रयोग करने, किसी भी प्रकार के ज्वलनशील पदार्थ, लाठी-डण्डा व हथियार इत्यादि लेकर चलने पर पाबंदी रहेगी। यह आदेश पुलिस तथा अन्य सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों पर ड्यूटी वश तैनात रहने की वजह से लागू नहीं माने जाएगें।
जिलाधीश श्री सरो द्वारा जारी इन आदेशों की जिले में अवहेलना करने पर यदि कोई व्यक्ति दोषी पाया जाता है तो वह भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अनुसार दण्ड का भागी होगा।
--------------------------
फरीदाबाद, 23 अगस्त।  जिलाधीश समीरपाल सरो ने आगामी 25 अगस्त 2017 को डेरा सच्चा सौदा सिरसा के प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम सिंह के केस में सीबीआई न्यायालय पंचकुला द्वारा निर्णय लिए जाने के उपरांत जिले में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रण में रखने तथा आम जान माल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के  उद्देश्य से पैट्रोल-डीजल आदि की खुली बिक्री व बोतलों में देने पर रोक लगाने के आदेश जारी किए है।
श्री सरो द्वारा यह आदेश दण्ड प्रक्रिया नियमावली 1973 की धारा-144 के तहत उन्हें प्रदत शक्तियों को प्रयोग करते हुए जारी किए गए है। आदेशों के अनुसार जिले में स्थित कोई भी पैट्रोल पम्प मालिक किसी भी आमजन को खुली बोतल, ड्रम, प्लास्टिक कैनी आदि में पैट्रोल व डीजल न देने के अलावा किसी ट्रैक्टर-ट्राली के मालिक को पांच लीटर से ज्यादा पैट्रोल-डीजल नहीं दे सकेगा। यह प्रतिबंध 22 अगस्त 2017 से लागू होकर सामान्य स्थिति बहाल होने अथवा उससे पूर्व वापिस लेने तक मान्य रहेगा। आदेशों की अवहेलना करते हुए दोषी पाये जाने वाले व्यक्ति के खिलाफ आईपीसी की धारा-188 के तहत दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।


loading...
SHARE THIS

0 comments: