Thursday, July 13, 2017

जुनैद हत्याकांड में एकतरफा पुलिस कार्रवाई के खिलाफ बामरोला गांव में आज पंचायत

पलवल 13जुलाई,2017(abtaknews.com)जुनैद हत्याकांड को मौकापरस्त नेता और मीडिया ने संप्रदायिक रंग देने की पुरजोर कोशिश की। इस पूरे मामले के मुख्य आरोपी नरेश के पकडे जाने के बाद गलतफहमी दूर हो गई। घटना के समय जो हालात बने जिसके मुताबिक आरोपी के अनुसार उसने आत्मरक्षा के लिए ये कदम मजबूरी में उठाया। हालत ऐसे हो गए कि या तो सभी जाति विशेष के लोग मिलकर नरेश का मर्डर कर देते, लेकिन उससे पहले नरेश ने उनपर तेजी से वार करते हुए अपनी रक्षा में जुनैद पर हमला बोल दिया। प्रश्न ये उठता है की अभी तक पुलिस यह पता नहीं कर पाई की घटना के समय ट्रैन में कितने जाति विशेष के युवक मौजूद थे और कितने बल्लबगढ़ स्टेशन से चढ़े, मृतक जुनैद ने किस किस को फ़ोन करके बल्लबगढ़ रेलवे स्टेशन पर बुलाया। चाकू किसका था, पहले किसने चलाया, बीचबचाव के लिए कौन आया। जुनैद हत्याकांड में मुख्य आरोपी नरेश के खुलासे के बाद खाम्बी से पकडे गए चार युवकों को पुलिस ने किस आधार पर पकड़ा अब उक्त सभी चारो आरोपी कब छूटेंगे। हॉस्पिटल में घायल मुस्लिम युवक का बयान अभी तक पुलिस ने क्यों नहीं लिया। ट्रेन के अंदर अभिअ तक पूरी घटना का चश्मदीद गवाह क्यों सामने नहीं आया। इन्ही सभी बातो को लेकर आज दिन बृस्पतिवार 10 बजे गांव बामरोला में इलाके की महापंचायत बुलाई गई है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: