Tuesday, July 11, 2017

चाचा की आत्महत्या को विधायक भतीजे ने बनवा दिया झूठा मर्डर केस, फंसा बेचारा हरबीर

फरीदाबाद(abtaknews.com)11जुलाई,2017; चाचा की आत्महत्या को विधायक भतीजे ने बनवा दिया झूठा मर्डर केस, फंस गया बेचारा हरबीर, पीड़ित परिवार ने पुलिस कमिश्नर कार्यालय पर प्रदर्शन किया। पीड़ित परिवार के साथ सैंकड़ो की संख्या में महिलाएं,पुरुष और युवाओं ने हरवीर के लिए न्याय की मांग की है।
थाना सारन क्षेत्र की डबुआ सब्जी मंडी में 10 मई को एक व्यक्ति को सल्फास खिलाने के आरोप में हरवीर नाम का गौंछी का एक युवक जेल में है| युवक के परिजनों का कहना है कि हरवीर पूरी तरह से निर्दोष है उसे जानबूझ कर फंसाया गया है | इस मुद्दे को लेकर सेक्टर 21 स्थित पुलिस आयुक्त कार्यालय पर सैंकडों ग्रामीण लोगों ने जमकर हंगामा किया, जिसमें गुस्साई महिलाओं की गेट को खोलने के लिये पुलिस से झडप भी हुई। पूरा मामला एनआईटी क्षेत्र के गोंछी गांव का है जहां रहने वाले हरवीर को पुलिस ने विधायक नगेन्द्र भडाना के चाचा गजराज भडाना की सल्फास खिलाकर हत्या करने के मामले में 15 मई को गिरफ्तार किया था। परिजन और सभी गांव वालों का दावा है कि हरवीर ने गजराज को जहर नहीं दिया है उसे निर्दोष राजनीतिक दबाब के चलते फंसाया गया है। जेल में बंद हरवीर की पत्नी और मां ने पुलिस को निष्पक्ष जांच के लिये दो दिन का समया दिया है उसके बाद दोनों पुलिस आयुक्त कार्यालय पर आत्महत्या करेंगी। दो बसों में भरकर पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचे ग्रामीण महिला और पुरूषों ने अपने ही गांव के हरवीर को निर्दोष फंसाये जाने के चलते जमकर हंगामा किया। बेगुनेहगार हरवीर को राजनीतिक दबाब में आकर पुलिस द्वारा गुनाहगार बना दिया गया इसी से गुस्साई महिलाओं ने पुलिस आयुक्त कार्यालय पर हंगामा करते हुए गेट को जबरन खोलने की कोशिश की जिसमें महिलाओं और पुलिस कर्मियों के बीच जमकर झडप हुई। बता दें कि फरीदाबाद थाना सारन क्षेत्र की डबुआ सब्जी मंडी में 10 मई को विधायक नगेन्द्र भडाना के चाचा गजराज की सल्फास खाने से मौत हो गई थी, खिलाने के आरोप में हरवीर नाम का एक युवक को पुलिस रिमांड पर ले लिया गया। गिरफ्तार किये गए हरवीर को पुलिस ने जेल में भेज दिया। जिसकी पत्नी 9 माह के बच्चे को गोद में लेकर निष्पक्ष जांच के लिये पिछले दो माह से पुलिस कर्मियों के चक्कर काट रही है। हरवीर की पत्नी का आरोप है जिस दिन गजराज भडाना की मौत हुई उस दिन हरवीर उसके साथ नहीं थाी जिनके साथ उन्होंने भी अपने ब्यान पुलिस को दे दिये हैं मगर पुलिस विधायक नगेन्द्र भडाना द्वारा दिलवाये जा रहे राजनीतिक दबाब के चलते कोई कार्यवाही नहीं कर रही है। उनकी मांग है गजराज के साथ हमेशा रहने वाले उसके ड्राईवर को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की जाये जहां से सच का पता लगेगा। पत्नी राजकुमार ने पुलिस को दो दिन का समय दिया है अगर निष्पक्ष जांच नहीं करवाई तो वह अपने 9 माह के बच्चे के साथ पुलिस आयुक्त कार्यालय के सामने आत्महत्या कर लूंगी। इस मौके पर सुमन, महिपाल, राजकुमार, रामवीर, पूजा,सुनीता, जयदेव, राजू, उषा सहित कई थे।

loading...
SHARE THIS

0 comments: