Sunday, July 9, 2017

तक्ष अस्पताल की चाइल्ड स्पेस्लिस्ट डॉक्टर टीम ने किया बच्चे का सफल ऑप्रेशन

फरीदाबाद 9 जुलाई,2017(abtaknews.com)फरीदाबाद एनआईटी स्थित तक्ष अस्पताल की बाल शल्य चिकित्सक डा.श्वेता मल्होत्रा द्वारा किये गये सफल आप्रेशन से एक नवजात बच्चे को जीवन दान मिला। यह जानकारी तक्ष अस्पताल के डायरेक्टर डा.धीरज मल्होत्रा ने देते हुए बताया कि पलवल निवासी लोकेश बैसला एवं उनकी धर्मपत्नी वर्षा का नवजात बच्चा जो कि पलवल अस्पताल में हुआ था और दूध पीने के बाद उल्टियां नहीं रूकने पर वहां के डाक्टरों द्वारा उसे तक्ष अस्पताल के लिए रैफर किया गया। उन्होंने बताया कि जब बच्चा यहां आया तो बाल शल्य चिकित्सक डा. श्वेता मल्होत्रा ने उसकी जांच की और पाया कि बच्चे की लैटरीन का रास्ता नहीं है एवं उसके पेट में सूजन भी है जिसका हल केवल आप्रेशन था जिसकी जानकारी उन्होंने बच्चे के परिजनो को दी और उन्हें बताया कि यह आप्रेशन तीन स्टेज पर होता है जिस पर उनकी सहमति पर बच्चे का आप्रैशन डा. श्वेता मल्होत्रा ने किया। डा. मल्होत्रा ने बताया कि उन्होने बच्चे के आप्रेशन के समय कई तरह की सावधानियो को बरता क्योंकि बच्चा नवजात था और डा. श्वेता मल्होत्रा के प्रयासों से पहले ही स्टेज पर ही सफल आप्रेशन का नवजात को जीवनदान दिया। डा. श्वेता मल्होत्रा ने बताया कि आप्रेशन के दौरान बच्चे के लिए टै्रम्परैरी लैटरीन का रास्ता बनाया। आप्रेशन के बाद बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ है और अब वह दूध भी पी रहा है और लेटरीन भी कर रहा है। डा. श्वेता मल्होत्रा ने बताया कि लैटरीन का रास्ता जन्म से ना होना जन्मजात बीमारी हे यह बीमारी गर्भावस्था में ही हो जाती है परंतु इस तरह की बीमारी का ईलाज संभव है और आप्रेशन के माध्यम से मरीज का जीवन बचाया जा सकता है।इस मौके पर अस्पताल के डारेक्टर डा. धीरज मल्होत्रा ने बताया कि तक्ष अस्पताल की बाल शल्य चिकित्सक डा. श्वेता मल्होत्रा एक अनुभवी डाक्टर है और इससे पहले भी वह कई क्रिटिकल आप्रेशन करके कई बच्चो की जान बचा चुकी है। इस अवसर पर बच्चे के पिता लोकेश बैंसला व माता वर्षा ने डा. श्वेता मल्होत्रा उनके बच्चे को जीवन देने के लिए आभा जताया।

loading...
SHARE THIS

0 comments: