Sunday, July 2, 2017

सामाजिक कार्यकर्ताओ ने अनशन स्थल पर आक्रोश-स्वरूप कराया मुंडन

फरीदाबाद,02जुलाई,2017(abtaknews.com)फरीदाबाद नगर निगम में व्याप्त महाभ्रष्टाचार को रोकने और घोटालों की उच्च स्तरीय जांच दल से जांच करवाने की मांग को लेकर 47 दिनों के सत्याग्रह, अनशनकारी बाबा रामकेवल के 8 दिन से चल रहे आमरण अनशन और तीन दिन से जीभ में सूई डालकर मौनव्रत के प्रति हरियाणा सरकार और स्थानीय जनप्रतिनिधियों की घोर असंवेदनहीता के विरोध में शहर के छः सामाजिक कार्यकर्ताओं ने आज सुबह अनशन स्थल पर आकर आंदोलन के प्रति संपूर्ण समर्थन व्यक्त करते हुए आक्रोश-स्वरूप मुंडन करवाया। इन सामाजिक कार्यकर्ताओं में किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष किशन सिंह चहल, इनैलो नेता अमरपाल नर्वत, पुरूष आयोग के नरेश मेंहदीरत्ता, म्युनिस्पिल कारपोरेशन ईम्पलाईज फैडरेशन के वरिष्ठ उपप्रधान व नगर निगम उद्यान विभाग कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष शाहाबीर खान, समाज सेवी दीपक मलिक और सागरपुर निवासी रोहित रावत आदि शामिल थे। इधर भ्रष्टाचार विरोधी मंच ने शहर को बरबाद करने वाले भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों के प्रति हरियाणा सरकार, नगर निगम प्रशासन, नगर निगम सदन, स्थानीय जनप्रतिनिधियों और मंत्री जी के द्वारा विश्वास देने के बाद भी बात करने के लिए बाबा जी पास न आने के विरोध में भ्रष्टाचार विरोध मंच के द्वारा अनशन स्थल से अजरौंदा चैक तक अनुशासित तरीके से थालियां बजाते हुए आक्रोश मार्च निकाला जायेगा, जिससे कि सरकार अपनी कुंभीकर्णी नींद से जाग जाए। इस आक्रोश मार्च में सेक्टर 22 रेजिडेन्ट वैलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष हर्ष बिश्नोई, समाज सेवी ज्ञानेन्द्र भारद्वाज, आकाश हंस, सहित युवा आगाज संगठन ने बढ़-चढ़ कर भाग लेने का एलान किया है। आम आदमी पार्टी के नेता एडवोकेट डी.के. वर्मा ने भी अनशन स्थल पर आकर एलान किया है कि आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता भी अपने बड़े नेताओं के नेतृत्व में इस आक्रोश मार्च में सहयोग करेंगे। मंच ने सभी शहरवासियों से अपील की है कि इस आक्रोश मार्च में वे अवश्य ही बढ़-चढ़ कर भाग लें, क्योंकि एक ओर तो एक संत अपने प्राणों की आहूति देने के लिए आठ दिन से अनशन पर हैं, वही भ्रष्टाचार की जांच की जांच बिठाने तक के लिए सरकार तैयार नहीं है। मंच की ओर से वरूण श्योकंद और 47 दिनों से सत्याग्रह कर रहे रतन लाल रोहिल्ला ने आज यहां जारी एक प्रैस विज्ञप्ति में यह जानकारी देते हुए बताया कि राज्य के उद्योग मंत्री विपुल गोयल का काफिला जब कल 1 जुलाई को अनशन स्थल के सामने से बी.के. हस्पताल के लिए गुजरा तो मंत्री जी ने अपनी गाड़ी का शीशा नीचे करके बाबा जी को प्रणाम किया, उद्योग मंत्री के इस शिष्टाचार के परिणामस्वरूप वहां उपस्थित सभी नागरिकों को यह आश बंधी कि वापिसी में वे निश्चित तौर से बाबा जी का कुशेलक्षम पूछेंगे और मंच के द्वारा उठाई जा रही मांगों के बारे में भी कुछ कहेंगे। वापिसी में मंच के कार्यकर्ता वरूण श्योकंद, धीरज हिन्दुस्तानी और अन्य ने अनशन स्थल के सामने से गुजर रहे काफिले को अनुरोधपूर्वक हाथ देकर रूकवाया और मंत्री जी से उनकी बात सुनने का नम्र निवेदन किया तो वे कुछ देर में वापिस आने का विश्वास दिला करके चले गये, और अभी तक न तो बाबा जी से मिलने ही आए और न ही मंच की बात सुनी है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: