Thursday, July 6, 2017

री अपेयर वाले छात्रों को प्रवेश ने मिलने से गुस्साये छात्रों ने फूंका शिक्षा मंत्री का पुतला


फरीदाबाद (abtaknews.com) री अपेयर वाले छात्रों को कालेज में दाखिला न दिये जाने से गुस्साये नेहरू कालेज के छात्रों ने कालेज के गेट पर एमडीयू के वाईस चांसलर व शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा के खिलाफ नारेबाजी करते हुए पुतला दहन दिया। छात्रों का अरोप है कि सरकार ने छात्रों के लिये तुगलकी फरमान जारी किया है जिसमें 50 प्रतिशत अंकों से पास होने वाले छात्रों को ही अगले सेमेस्टर में प्रवेश दिया जायेगा। जिसकी वो कडी निंदा करते हैं और मांग करते हैं कि जल्द से जल्द सभी छात्रों के प्रवेश लिये जायें अन्यथा सैंकडों छात्र सडकों पर उतरकर सरकार का विरोध करेंगे।
युवा आगाज संगठन के छात्र अजय डागर ने कहा कि एमडीयू की तरफ से इस साल भी एक तुग़लकी फरमान आया है जिसके तहत तीसरे सेमेस्टर में एडमिशन लेने के लिये पहले सेमेस्टर के 50 प्रतिशत अंकों से पास होना अनिवार्य है जबकि बच्चो को दाखिले के समय ऐसा कोई नियम नही बताया गया था। जिसके विरोध में छात्रों ने आज  वाईस चांसलर एमडीयू और शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा का पुतला फूंका है। डागर की माने तो पिछले साल भी ऐसे ही छात्रों को परेशान करने के लिये तुग़लकी फरमान आया था पर उसके लिये लगभग 15 दिन युवा आगाज़ संगठन  फरीदाबाद ने संघर्ष किया था,जिसमे उधोग मंत्री विपुल गोयल व केन्दीय मंत्री कृष्ण पाल गुज्जर के यहां भारी बारिश में भीगते हुए भी अपनी मांग को लड़ते हुए मनवाया था।
 अनिवार्य है जबकि बच्चो को दाखिले के समय ऐसा कोई नियम नही बताया गया था।डागर ने कहा की आज  वाईस चांसलर MDU , शिक्षा मंत्री श्री रामबिलास शर्मा, का पुतला दहन किया है।वहीं अनुज भाटी ने कहा कि बिना एडमिशन के हजारों छात्र परेशान घूम रहे है व हजारों की संख्या में छात्रों का भविष्य खराब हो जाएगा अगर समय रहते सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया। अथार्त  जल्दी में छात्रहित में कोई फैसला नही लिया गया तो इसका छात्रों पर बुरा प्रभाव पड़ेगा और बुरे रास्तों पर जाने को मजबूर हो जाएंगे। 
 अगर श्री डागर की माने तो पिछले साल भी ऐसे ही छात्रों को परेशान करने के लिये तुग़लकी फरमान आया था पर उसके लिये लगभग 15 दिन युवा आगाज़ संगठन  फरीदाबाद ने संघर्ष किया था,जिसमे उधोग मंत्री विपुल गोयल व केन्दीय मंत्री कृष्ण पाल गुज्जर के यहां भारी बारिश में भीगते हुए भी अपनी मांग को लड़ते हुए मनवाया था ,जिसके परिणामस्वरूप रात 10 बजे आनन फानन में छात्रों का विरोध देख मंत्री के कर्मचारियों ने मंत्री जी से बात कर इसे ईमेल के द्वारा निरस्त करवाया था । और नियम वापिस हुआ था लेकिन इस साल फिर से छात्रों को उसी मोड़ पर खड़ा कर दिया है ।लेकिन युवा आगाज़ संगठन शुरू से ही छात्र हितों के लिए लड़ता रहा है।और हमेशा लड़ता रहेगा संगठन छात्र विरोधी नियमरूपी तुगलकी फरमान को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करेगा।अगर यूनिवर्सटी  ने ये छात्र विरोधी  फैसला वापस नहीं लिया तो आगे संगठन बहुत बड़ा आंदोलन करने पर उतारू हो जाएगा,व सभी छात्र सड़कों पर आ जायेंगे।इस मौके पर-:अजय डागर,मनीष,लड़डू विशाल,दिनेश रावत,धर्मी दोलतावाद, आकाश,हरिओम,सुमित,व अन्य युवा साथी मौजूद रहे।

loading...
SHARE THIS

0 comments: