Monday, July 3, 2017

फाउंडेशन अगेंस्ट थैलासीमिया द्वारा विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन

Faridabad(abtaknews.com)फाउंडेशन अगेंस्ट थैलासीमिया द्वारा एक विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन ब्लड बैंक संतो का गुरुद्वारा में किया गया जिसका शुभारम्भ रोटरी क्लब ऑफ़ दिल्ली साउथ सेंट्रल के प्रेसिडेंड श्री मुकेश अग्रवाल, पूर्व मिसेस एशिया रश्मि सचदेवा व् समाज सेविका गुर्नीत चावला ने किया इस अवसर पर रोटरी क्लब ऑफ़ दिल्ली साउथ सेंट्रल के रोटेरियन चन्दर शेखर , ललिता माथुर, शशि अग्रवाल , शीतल छाबड़ा, राजश्री शारदा, धर्मेश मेहता, के सदस्य मौजूद थे यह विशाल रक्तदान शिविर विशेष रूप से थैलासीमिया ग्रस्त बच्चो के लिए था इस समय ग्रस्त बच्चो को रक्त की कमी का सामना करना पड़ रहा था जिसके लिए रक्त दाताओ ने आगे आकर इस कमी को किसी हद तक दूर कर दिया है। श्री मुकेश अग्रवाल जी ने लोगो को रक्तदान के लिए प्रेरित किया इस अवसर पर रश्मि सचदेवा व् समाज सेविका गुर्नीत चावला ने उपस्तिथ लोगो को रक्त के महत्व के बारे में विस्तार से बताया। आज के रक्तदान शिविर में ब्लड बैंक डेरा संत भगत सिंह जी महाराज फरीदाबाद व् सिविल हॉस्पिटल फरीदाबाद की टीम ने 100 यूनिट रक्त एकत्र किया जो थैलसिमया बच्चो के काम आएगा। मुकेश अग्रवाल ने बताया की आगे भी वो इसी तरह रक्तदान शिविरों का आयोजन करते रहेगे ताकि थैलासीमिया ग्रस्त बच्चो को रक्त की कमी का सामना कभी भी ना करना पड़े। साथ ही आश्वासन दिया की बच्चो की जो भी उचित सहायता होगी वो करते रहेगे। आज के रक्तदान शिविर में थैलासीमिया ग्रस्त बच्चो के अभिवावको के साथ साथ उन रक्तदाताओ ने भी रक्तदान किया जो वर्षो से बच्चो के लिए रक्तदान करते आ रहे उनमे विशेष रक्तदाता मुख्य अतिथि श्री मुकेश अग्रवाल, अंशुमन शर्मा, रम्मी रात्रा, संजय गुलाटी , भुवन शर्मा व् भारत डुडेजा थे। नीरज कुकरेजा , अमरजीत अरोरा , पंकज चौधरी , मदन चावला , बी. दास बतरा , बलविंदर खत्री , ऋतू खन्ना , पूनम वोहरा , जे. के. भाटिया J.D. ARORA ने उपस्तिथ होकर रक्तदाताओ का हौसला बढ़ाया। इसी अवसर पर फाउंडेशन अगेंस्ट थैलासीमिया के रविंदर डुडेजा ने उपस्तिथ लोगो को विस्तार से थैलासीमिया की जानकारी दी की किस प्रकार इस नामुराद बीमारी को रोका जा सकता है। मदन चावला ने बताया की जल्द ही उनसे समाज के लोगो से मुलाकात कर उनसे विचार विमर्श किया जायेगा की किस प्रकार रक्त की कमी को दूर किया जा सकता है व् किस प्रकार थैलासीमिया को रोक जा सकता है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: