Saturday, July 1, 2017

निगम में भ्रष्टाचार की सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर युवा आगाज संगठन ने किया प्रदर्शन, निकाली शव यात्रा

फरीदाबाद(abtaknews.com)निगम में व्याप्त भ्रष्टाचार की जांच को लेकर मुख्यालय पर चल रहे अनशन और मौन व्रत के समर्थन और भ्रष्टाचार की जांच सीबीआई से कराने की मांग को लेकर युवा आगाज संगठन के कार्यकर्ताओं ने नीलम चौक से बीके चौक तक हरियाणा सरकार की शव यात्रा निकालकर पुतला फूंका। इतना ही नहीं प्रदर्शनकारियों ने निगमायुक्त सोनल गोयल का उनके कार्यालय के बाहर घेराव भी किया । प्रदर्शनकारियों का कहना है कि अगर सरकार ने जल्द ही इसकी जांच नहीं कराई तो शहर में बड़ा आंदोलन होगा और सडक़े भी जाम होगी। निगम में व्याप्त बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार को लेकर निगम का ही अधिकारी रतन लाल रोहिला और कई संगठनों के प्रतिनिधि पिछले 44 दिनों से अनशन पर बैठे हुए है। यहां तक कि बाबा रामकेवल ने तो सरकार को गूंगी बहरी बताते हुए अपनी जीभ में सूंई डालकर मुह बंद कर लिया है। लगातार भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने और उसकी जांच कराने की मांग के बावजूद निगम प्रशासन और सरकार द्वारा कोई कार्रवाही न करने से नाराज अब शहर के दूसरे सामाजिक संगठन भी सामने आ गए है। इस क्रम में युवा आगाज संगठन के कार्यकर्ताओं ने आज नीलम चौक से बीके चौक तक भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रदर्शन किया और सरकार की शव यात्रा निकालकर पूतला फूंका। प्रदर्शनकारियों का गुस्सा यहीं शांत नहीं हुआ इसके बाद दर्जनों प्रदर्शनकारियों ने नगर निगम मुख्यालय में घुसकर निगमायुक्त सोनल गोयल का घेराव किया और जमकर नगर निगम मुर्दाबाद के नारे लगाये। युवा आगाज के संयोजक जसवंत पवार,राजेश एडवोकेट,अजय डागर का कहना है कि सरकार भ्रष्टाचार मुक्त शासन का दावा करके ढकोसला कर रही है। जबकि उन्ही के एक अधिकारी द्वारा निगम में हो रहे करोड़ों के घोटाले से पर्दा उठाते हुए इसकी जांच एसआईटी से कराने की मांग की और अनशन कर रहे है। लेकिन सरकार जांच कराने की बजाय भ्रष्ट अधिकारियों को संरक्षण दे रही है। जब उन्होंने इस बारे में निगमायुक्त से मुलाकात की तो उनका कहना था कि वो सरकार के लिये पत्र लिखकर भेज चुक हैं उनके हाथ में एसआईटी गठन करने की पावर नहीं है। प्रदर्शनकारियों ने चेतावनी दी है कि अगर सरकार ने जल्द इसकी सीबीआई जांच नहीं कराई तो बड़ा आंदोलन होगा और सडक़े भी जाम की जायेंगी। युवा आगाज के संयोजक जसवंत पवार, समाजसेवी ओपी भाटी व राजेश तेवतिया का कहना है कि सरकार भ्रष्टाचार मुक्त शासन का दावा करके ढकोसला कर रही है। जबकि उन्ही के एक अधिकारी द्वारा निगम में हो रहे करोड़ों के घोटाले से पर्दा उठाते हुए इसकी जांच एसआईटी से कराने की मांग की और अनशन कर रहे है। लेकिन सरकार जांच कराने की बजाय भ्रष्ट अधिकारियों को संरक्षण दे रही है। जब उन्होंने इस बारे में निगमायुक्त से मुलाकात की तो उनका कहना था कि वो सरकार के लिये पत्र लिखकर भेज चुक हैं उनके हाथ में एसआईटी गठन करने की पावर नहीं है। प्रदर्शनकारियों ने चेतावनी दी है कि अगर सरकार ने जल्द इसकी सीबीआई जांच नहीं कराई तो बड़ा आंदोलन होगा और सडक़े भी जाम की जायेंगी। जसवंत ने कहा कि शहर को बचाने के लिये चल रहे इतने बडे आंदोलन में अभी तक कुछ समाजसेवी ही सामने आये हैं उन्हें लगता है कि अन्य विपक्षी पार्टियों की भी निगम में कोई न कोई मिली भगत है जो कि सरकार के खिलाफ सामने नहीं आ रही हैं। वहीं जसवंत ने बताया कि रविवार 2 जुलाई को सरकार के विरोध में बीके चौक पर मुंडन करवाने का फेंसला लिया है जिसमें 11 युवा मुंडन करवायेंगे। इस प्रदर्शन में एडवोकेट राजेश तेवतिया, अजय डागर, समाजसेवी ओपी भाटी, सचिन सैनी, किशन शर्मा, विकास, वरूण, देवेन्द्र पवार, नवीन, नीरज हिंदुस्तानी, रोहित, विशाल, राहुल, राजकुमार, मुकल, सुरेश नागर और प्रदीप सहित दर्जनों युवा मौजूद रहे।

loading...
SHARE THIS

0 comments: