Thursday, July 6, 2017

आपदा प्रबन्धन की टीम ने महावतपुर व राजपुर कलां में ग्रामीनों को बताये बाढ़ सुरक्षा गुर

फरीदाबाद, 6 जुलाई,2017(abtaknews.com)उपायुक्त समीरपाल सरो के आदेशानुसार एवं जिला राजस्व अधिकारी पी.डी. शर्मा के दिशानिर्देशानुसार आपदा प्रबन्धन के विषय विशेषज्ञ डा. एमपी सिंह द्वारा महावतपुर व राजपुर कलां में बाढ़ सुरक्षा सप्ताह के तहत आज चैथा दिन किसानों, घरेलू महिलाओं, विद्यार्थियों व खेतों में काम करने वाले मजदूरों के साथ मनाया गया। जिसमें रिसर्च आफिसर अंकिता प्रसून का अहम् योगदान रहा। डा. एम पी सिंह ने महावतपुर के सरकारी स्कूल में ग्राम पंचायत के पंच-सरपंच, ग्राम सचिव, अध्यापक व विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि बरसात के समय बिजली का करंट सीलन के कारण घरों में फैल जाता है व पानी की टूटी में भी विद्युत धारा का प्रवाह देखने को मिल जाता है। इसलिए सभी को इस बारे सचेत रहना चाहिए और घर में रहने वाले छोटे बच्चों को विद्युत सम्बन्धी उपकरणों को हाथ नहीं लगाना चाहिए। इसी कार्यक्रम के अन्तर्गत गुलाब एण्ड पार्टी के रंगमंच के कलाकारों ने गानों व नुक्कड़ नाटक के माध्यम से ग्रामीणों को जागृत किया। आज ही राजपुर कलां के सरकारी स्कूल के विद्यार्थियों को लेकर गांव में बाढ़ सुरक्षा पर रैली निकाली गई जिसमें गांव की पंचायत ने भी बढ़-चढ़ कर भाग लिया। रैली के माध्यम से संदेश दिया गया कि आग, बिजली व पानी से खिलवाड़ नहीं करनी चाहिए।इस अवसर पर चीफ वार्डन सिविल डिफैंस एमपी सिंह ने लोगों को बाढ़ से पूर्व की तैयारी, बाढ़ के दौरान बचाव कार्य व बाढ़ के बाद घरों में प्रवेश करने से पहले के सभी तरीकों की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने लोगों से अपील की कि हम सभी इंसान हैं इसलिए इंसानियत के नाते हम सभी का कर्तव्य है कि हमारी वजह से किसी को कोई असुविधा न हो। पानी के निकास के सभी का निकास अवरूद्ध नहीं होने चाहियें। जल में अपने प्शुओं को न रहने दें क्योंकि उनके मलमूत्र से जल दूषित हो जाता है और जल जनित बीमारियां फैलने की आशंका रहती है। जिला आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण की तरफ से बाढ़ सुरक्षा के नोडल अधिकारी पीडी शर्मा ने बताया कि बीमारियों के संक्रमण से बचने के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा कमेटियों का गठन कर लिया गया है। पशु पालन विभाग के अधिकारियों ने भी उक्त प्रकार के संक्रमण से बचने हेतु कमेटियों का गठन कर लिया है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: