Friday, July 28, 2017

हरियाणा स्वर्ण जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में चार दिवसीय हरियाणा पुस्तक मेले का आयोजन

Book-fare-haryana-granth-academy-panchkula-at-dav-public-school-sector-14-faridabad

फरीदाबाद 27 जुलाई,2017(abtaknews.com)फरीदाबाद में हरियाणा स्वर्ण जयंती बर्ष के उपलक्ष्य में चार दिवसीय हरियाणा पुस्तक मेले का आयोजन किया गया है जिसमें हरियाणा के इतिहास को बताने वाली अहम पुस्तकों को रखा गया है तो वहीं अन्य प्रदेशों से कई जिलों के पुस्तक विके्रताओं ने इस मेले में भाग लिया है और देश दुनिया से जुडी जानकारियों को पुस्तकों में समेट कर लेकर आये हैं। आज पुस्तक मेेले का विधिवत रूप से शुभारंभ किया, जिसके बाद पुस्तकों प्रेमी भी पुस्तक खरीदते हुए नजर आये, जिन्होंने कहा कि सरकार का हरियाणा की संस्कृति को बताने का बहुत अच्छा कदम है।
video

हरियाण के 50 वर्ष पूरे होने की खुशी में इस साल को स्वर्ण जयंती बर्ष के रूप में मनाया जा रहा है जिसमें कभी सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है तो कभी हरियाणा से जुडे अन्य कार्यक्रम के माध्यम से हरियाणा के बारे में विस्तृत जानकारी दी जा रही है। इसी कडी में फरीदाबाद में चार दिवसीय हरियाणा पुस्तक मेले का आयोजन किया है जिसकी शुरूआत आज से की गई है। इस मेले में हरियाणा से संबंधित पुस्तकों को प्राथमिकता दी गई है। मेेले में हरियाणा के कई जिलों से पुस्तक विक्रेता हरियाणा की तमाम जानकारी पुस्तकों में समेट कर लाये हैं तो वहीं इस मेले अन्य प्रदेशों के जिलों से भी पुस्तक विक्रेता अपनी अपनी पुस्तकों को लेकर पहुंचे हैं।
इस पुस्तक मेले के बारे में अधिक जानकारी देते हुए हरियाणा ग्रंथ अकादमी के निदेशक विजय दत्त शर्मा ने अबतक न्यूज़ पोर्टल टीम को बताया कि मेेले में हरियाणा की संस्कृति इतिहास और लोक कला की जानकारी से संबंधित पुस्तकों में ज्ञान भरा हुआ है जिसका उद्देश्य जन जन तक हरियाणा के इतिहास के बारे में जानकारी पहुंचना है। उन्होंने बताया कि अब तक वो इससे पहले दो पुस्तक मेले लगा चुके हैं ये तीसरा पुस्तक मेला है।
वहीं मेले में पहुंचे डॉ वेद प्रकाश व्यथित चंद्र प्रकाश फुलेरिया पुस्तक प्रेमियों ने मीडिया को बताया कि हरियाणा सरकार का ये बहुत ही सार्थक कदम है जिससे सभी को हरियाणा के बारे में जानने का मौका मिलेगा, उन्होंने भी इस मेेले से कई पुस्तक खरीदी हैं जिन्हें वो घर पर पढेंगे, वहीं उन्होंने बताया कि ई पुस्तक के जमाने में पुस्तकों का क्रेज थोडा कम जरूर हुआ है मगर अभी लोगों में सामने पुस्तक देखने की एक ललक जरूर होती है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: