Wednesday, July 19, 2017

भ्रष्टाचार विरोधी मंच 22 जुलाई को मिलेगा उद्योग मंत्री विपुल गोयल से


फरीदाबाद, 19 जुलाई,2017(abtaknews.com ) भ्रष्टाचार विरोधी मंच 22 जुलाई को उद्योग मंत्री विपुल गोयल से मिलेगा।  फरीदाबाद नगर निगम में व्याप्त महाभ्रष्टाचार को रोकने और घोटालों की जांच की मांग को लेकर यदि हरियाणा सरकार ने गत 10 जुलाई को उद्योग मंत्री विपुल गोयल के द्वारा दिए गए आश्वासन के अनुरूप विशेष जांच दल  (एस.आई.टी.) का गठन नहीं किया तो आगामी 25 जुलाई से निगम मुख्यालय पर सत्याग्रह फिर शुरू कर दिया जायेगा।  मंच ने यह भी एलान किया है कि 42 घोटालों की दो चार्जशीट सरकार को पहले ही भेजी जा चुकी है और तीसरी चार्जशीट भी तैयार की जा रही है, जिसे सरकार को जल्दी ही भेज दी जायेगी।
सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता व मंच के संयोजक डा. ब्रहमदत्त पदमश्री, अनशनकारी बाबा रामकेवल, मंच के सदस्य वरूण श्योकंद व रतन लाल रोहिल्ला ने आज यहां जारी एक प्रैस विज्ञप्ति में यह जानकारी देते हुए बताया कि निगम के घोटालों की जांच के लिए 56 दिन के सत्याग्रह और अनशनकारी बाबा रामकेवल जी के 16 दिन के आमरण अनशन के बाद हरियाणा सरकार की ओर से माननीय उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने मंच की मांग के अनुसार दस दिन के अंदर-अंदर यानि कि 20 जुलाई तक एस.आई.टी. के गठन का एलान करते हुए बाबा रामकेवल जी के अनशन को गत    10 जुलाई को समाप्त करवाया था।  मंच ने भी उद्योग मंत्री के आश्वासन पर विश्वास व्यक्त करते हुए अपने आंदोलन को स्थगित कर दिया था।  उन्होंने बताया कि मंच का एक प्रतिनिधिमंडल 22 जुलाई को प्रातः 11 बजे उद्योग मंत्री विपुल गोयल से मिलने सेक्टर 16 फरीदाबाद स्थित उनके कार्यालय पर जायेगा और उनसे इस मामले में हुई प्रगति के बारे में जानकारी प्राप्त करेगा।  यदि कोई ठोस व तर्कसंगत जबाब नहीं मिलता है तो उस स्थिति में 25 जुलाई से सत्याग्रह शुरू कर दिया जायेगा।
उन्होंने बताया कि उद्योग मंत्री को पत्र लिखकर इस सम्बन्ध में मंच के साथ बैठक का आयोजन करने का अनुरोध किया जा चुका है, लेकिन न तो पत्र का ही कोई उत्तर प्राप्त हुआ है और न ही विशेष जांच दल का गठन अभी तक किया गया है।  मंच ने हरियाणा सरकार और उद्योग मंत्री से अनुरोध किया है कि इस मामले में मंच को विश्वास में लेकर बिना किसी देरी के एस.आई.टी. गठित करने की अधिसूचना जारी करें जिससे कि फरीदाबाद नगर निगम की कार्यप्रणाली में सुधार हो सके।

loading...
SHARE THIS

0 comments: